शुक्रवार, 24 जनवरी 2014

हाथों में तेरे मेरा हाथ रहे

साल 1984:
अच्छा नौकरी मिल जाने अऊर दू बरिस नौकरी कर लेने के बाद घर में सादी का बारे में लोग सीरिअस हो जाता है अऊर घर का लोग से जादा समाज का लोग. एक से एक रिस्ता का रेकमेण्डेसन. लड़की का बिआह जेतना मोस्किल होता था ऊ टाइम में, ओतने मोस्किल लड़का का भी बिआह करना होता था. उसको भी नौकरी करते हुए दू बरिस हो चुका था. रिस्ता का बात भी सुरू हो गया था अऊर दोस्त लोग भी पूछने लगा था कि कहो तो एकाध गो रिस्ता हम भी भेजवाते हैं. कहो त लड़की देखा देते हैं चुपके से, दूर से देखकर पसन्द कर लो. अऊर तुम तो भाई बहुत इस्मार्ट हो, लड़की भी तुम्हारे टक्कर का सुन्दर है. मगर ऊ बहुत सांत लड़का था. हँसकर टाल जाता था.

दू-चार रोज छुट्टी के बाद एक रोज जब ऊ आया त उसका हुलिया बदला हुआ था. हाथ में सोना का अंगूठी, नया-नया सर्ट-पैण्ट, हाथ में नया एच.एम.टी. का घड़ी, नया सैण्डिल के अन्दर आलता से रंगा हुआ गोड़. मतलब मुर्गा हलाल हो चुका था. हम सब लोग उसका खूब क्लास लिए कि बिना दोस्त लोग को बताए ऊ कब सादी कर लिया. ऊ भी एतना चट-पट! खैर, हमको ऊ एतवार के रोज अपने घर पर बोलाया.

गिफ़्ट लेकर जब हम पहुँचे, त ऊ अपना रूम में ले गया, जहाँ नया दुल्हिन माथा पर आँचल रखकर बैठी हुई थी. हम दुल्ह्न को गिफ़्ट पकड़ाए, त ऊ हमको बैठने के लिए बोलकर चाय-नास्ता लाने चली गई. लड़की का चेहरा देखकर हमको बहुत अजीब लगा. उसके साथ कोनो मेल नहीं था लड़की का. एकदम साधारन लड़की.

मगर ऊ बहुत खुस था. चाय-नास्ता के साथ लड़की से बात-चीत हुआ, त हमको लगा कि चेहरा मन का आईना जरूर होता है, मगर बहुत बार धोखा भी दे जाता है. कुल मिलाकर हमको लगा कि ऊ दुनो का जोड़ी एकदम “मेड फ़ॉर ईच अदर” था.
लौटते समय ऊ हमरे साथ बस स्टैण्ड तक आया, तब बातचीत सुरू हुआ.
“क्यों! हैरान हो ना?”
”हाँ यार! एक तो इतनी गुपचुप शादी और उसपर...!”
“तो तुम भी सोचते होगे कि मैंने दहेज के लालच में एक ऑर्डिनरी लड़की से शादी कर ली?”
“....”
”तुम्हें दिखा मेरे घर में ऐसा कुछ?”
”मैं किसी लड़की को बुरा नहीं कहता. लेकिन ऐसा हुआ क्या?”
”कुछ नहीं. बस हुआ वही जो शायद लिखा था पहले से. जोड़ियाँ स्वर्ग में ही बनती हैं. घर में शादी की बात चल ही रही थी. एक दिन मुझे माँ ने कहा कि मेरी बुआ की जानपहचान की एक लड़की है. बुआ की ज़िद है कि मैं जाकर उसे देख लूँ! पसन्द ना आए तो बेशक मना कर दूँ.”
“और तुम देखते ही रीझ गए?”
”नहीं! देखते ही नहीं, सुनते ही रीझ गया!”
”क्या मतलब?”
”मैं ड्राइंग रूम में बैठा था, तो वो चाय लेकर आई. घरेलू कपड़े पहने हुए, बालों में तेल लगाए, न कोई मेक-अप, न साज सिंगार. नॉर्मली लड़की चाहे जैसी भी हो ऐसे मौकों पर सजती ज़रूर हैं! वो चाय रखकर बैठ गई. मेरे कुछ कहने के पहले ही वो बोल पड़ी कि आप चौंकिए मत. अपनी बुआ को मना कर दीजिए. उनकी ज़िद के कारण कई लोग मुझे देखने आते हैं और रिजेक्ट करके चले जाते हैं. अब मैं अपनी शक्ल सूरत तो बदल नहीं सकती. तंग आ गई हूँ. आप भी वही करेंगे!”
”क्या बात कर रहे हो!! फिर तुमने क्या कहा?”
”कहना क्या था. मैंने तुरत कह दिया कि वो मुझे पसन्द है. उसका चेहरा सुन्दर भले न हो, लेकिन उसकी ईमानदारी मुझे पसन्द आई. और तुम्हें तो पता है कि मेरे परिवार के लिए बस ऐसी ही लड़की चाहिए.”
”और तुम्हारी फ़ैमिली?”
”मियाँ बीवी राज़ी तो क़ाज़ी साहब को तो बस ‘क़ुबूल है’ ही रिकॉर्ड करना होता है ना!”

साल 1988:
अपना लड़की के रिस्ता के लिए एगो औरत लड़का वाला के घर गईं. पता चला लड़का का त सादी हो गया. ऊ औरत की ननद बोली कि काहे नहीं आप इनकी बेटी को अपना बेटा के लिए देख लेती हैं. बरसात का ई आलम था कि चारो तरफ पानी जमा हुआ था. लड़की एगो इस्कूल में काम करती थी. पता चला अभी आने वाली है अऊर एही रास्ता से जाएगी. थोड़ा देर में ऊ लड़की पानी में सलवार ठेहुना तक उठाकर चलते हुए सामने से अपना घर में जाने लगी. छोटा कद, साधारन चेहरा मोहरा... लड़का के माँ को लड़की कुछ खास पसन्द नहीं आई. इसलिए लड़का के सादी का बात आगे नहीं बढ़ सका.

दू महीना बाद, ओही लड़की के सादी के लिए लड़का के घर रिस्ता आया. घर में सबलोग एक सुर में बोला कि लड़की को देखकर पसन्द ना-पसन्द लड़का के अलावा कोई नहीं करेगा. खैर फैसला हुआ कि जाकर देख लो अऊर बात कर लो.

लड़की के चाचा के घर साम को लड़की देखने का तय हुआ. साम को इंतजार होने लगा लड़की का, मगर बहुत देरी हो रहा था उसको आने में. पता चला ऑफिस में कोई बहुत जरूरी काम आ गया है. लड़की जब आई, त उसको जल्दी-जल्दी में तैयार होने का टाइम नहीं मिला. जल्दी से कपड़ा बदल कर उसको चाय लेकर लड़का अऊर उसके भाई के सामने भेज दिया गया. लड़का देखा कि ब्लाउज का बाँह बिना आयरन किया हुआ है. ऊ मुस्कुरा दिया. अपना भाई से धीरे से पूछा कि तुमको लड़की पसन्द है? उसका भाई बोला – हाँ!


बस बात फाइनल हो गया. नवम्बर 1988 में सगाई अऊर 18 जनवरी 1989 को सादी. सादी का पच्चीस साल हो गया है. अऊर बिस्वास हो गया है कि जोड़ी सचमुच ऊपर से बनकर आता है! 

40 टिप्‍पणियां:

  1. सादे लोगों में बात ही कुछ और होती है सलिल भाई . . .
    सस्नेह मंगलकामनाएं सादे जोड़े को !
    :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. सूरत की बजाय गुणों को पसन्द करने वाले लोग बहुत कम होते हैं पर जो हैं ,रिश्तों में स्नेह ,विश्वास और माधुर्य उन्ही से है । उन्हें मेरा नमन । आपको भी । यह हाथ हमेशा आपके हाथों में रहे..। बहुत ही आत्मीयता से लिखी है आपने हर बात ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बहुत हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनायें ... ढोलक तो उस दिन आपको सुनवा ही दी थी ... :)
    जोड़े से सादर प्रणाम स्वीकार करें |

    उत्तर देंहटाएं
  4. जो लोग ज्‍यादा मीन-मेख निकालते हैं वे ही सदा दुखी रहते हैं। साधारण चेहरे-मोहरे वाले लोग अक्‍सर जिन्‍दगी को ज्‍यादा सरलता से जीते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह चचा!!! कमाल की सुन्दर पोस्ट है...फिर से आज आपको विश कर दे रहे हैं.....पच्चीसवीं हैप्पी एनिवर्सरी एक बार फिर !!! :) :)
    और फोटो भी लगा देते तो मज़ा आ जाता ! :) :)

    उत्तर देंहटाएं
  6. क्या बात है …सलिल इस मौके पर आपका याद करना सुखद लगा …२५ वीं सालगिरह मुबारक हो .... बहुत बहुत बधाई … रब्ब जोड़ी बनाये रखे ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. मिठाई खा के खूब इतमिनान से लिखे हैं। ..बहुत बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  8. नौकरी मिलने के दो वर्ष बाद ही हमें बाँध दिया गया, हर बार घर जाना कठिन हो जाता था, सुबह शाम शादी की बातें। आप दोनों को ढेरों शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह! भैया, बहुत घुमा फिरा के बताया, बहुत बहुत बधाई और शुभकामना,
    माफ कीजिएगा बहुत दिन बाद आना हुआ है।

    उत्तर देंहटाएं
  10. भैया रास्ता भटक गया था, अब फिर से सही रास्ते पर आने की कोशिश है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपकी इस प्रस्तुति को आज की राष्ट्रीय मतदाता दिवस और ब्लॉग बुलेटिन (मेरी 50वीं बुलेटिन) में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत ही सुन्दर और खूबसूरत संस्मरण जिंदगी को जीता हुआ। आप दोनों को अनेक शुभकामनाये और आशीर्वाद। ये बंधन छूटे ना। सुंदरता मन कि होती है बाकि तो जो ईश्वर और माता पिता से मिला है वाही सर्वोपरि है।

    उत्तर देंहटाएं
  13. 1984 के जमाने में लड़का कॉलेज में पढता था तभिये बियाह फाइनल हो जाता था. कोनो लड़का दू बरिस नौकरी कर ले आ बियाह नहीं हुआ माने कि लड़का बुढा गया. लड़की बी ए पास, बस उहे बहुत हुआ. दान दहेज़ का ओतना चक्कर नहीं था तब. और न सुन्दरता के पीछे लोग भागता था. अगर टीचर लड़की है तब त सोना में सुहागा. बहुत शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  14. खूबसूरत संस्मरण आप दोनों को ढेरों शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  15. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  16. aap donon ki saralta man ko choo gayee......swachch,sushant,saral man men.....ek duje ki muskan rahe.......

    उत्तर देंहटाएं
  17. ये हाथों में हाथ वाला साथ हमेशा बना रहे। आप दोनों को व समस्त परिवार को बहुत सारी शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  18. हम आपसे बड़ा रहते तो आपको आसीर्वाद दे देते... लेकिन अभी तो बधाई ले लीजिये.... :-)

    उत्तर देंहटाएं
  19. वैसे तो कोई ऐसे छूछे हाथ कोई ख़ुशी की खबर सुनाये तो हम तब तक बधाई नहीं देते जब तक मिठाई न खिला दे , ब्लॉग जगत की कंजूसी का पिछला रिकार्ड देखे तो कहने का फायदा नहीं है सो :)
    ये पच्चीस साल का आप दोनों का साथ ऐसे ही आगे के पच्चीस साल और चलते रहने की ढेर सारी शुभकामनाये !

    उत्तर देंहटाएं
  20. पचीस साल पूरे हो गए ... आशा है पलक झपकते हुए होंगे ... ऐसे ही अगले पच्चीस भी आएं फिर अगले भी आएं ... बहुत बहुत बधाई और शुभकामनायें ...

    उत्तर देंहटाएं
  21. शुभकामना तो दे दी थी उसी दिन पर यह सुन्दर सी पोस्ट पढ़ने में देरी हो गयी.
    इसलिए एक बार और बधाई ले लीजिए :)

    उत्तर देंहटाएं
  22. ओह सलील जी, बधाई देने में देर हो गयी न !
    कोई बात नहीं बधाई तो अभी भी दे ही सकती हूँ, बहुत सुन्दर संस्मरण साझा किया है शादी की पच्चीस वी वर्षगांठ बहुत बहुत मुबारक हो आप दोनों को !

    उत्तर देंहटाएं
  23. अगर पति-पत्नी के रिश्ते में प्रेम,समर्पण,विश्वास हो तो जीवन भर का
    साथ सुखद लगता है, कई बार ऊपरी खूबसूरत सौंदर्य के पीछे कुरूप व्यक्तित्व छिपा होता है और कभी कभी साधारण चहरे के पीछे भी असाधारण व्यक्तित्व छिपा होता है ! अच्छे व्यक्तित्व का साथ होना भाग्य की ही बात है !

    उत्तर देंहटाएं
  24. प्यारे से बड़े भैया और भौजी को बहुत बहुत शुभकामनायें व बधाई :)

    उत्तर देंहटाएं
  25. तनिक देर से दे रहे हैं पर स्वीकार कर लीजिएगा चचा...सादी की पच्चीसवीं सालगिरह पर बधाई...|
    वईसे ऊ त हम भाई से बोल दिए रहे कि फोनवा पर हमरी तरफ से भी परनाम कर लेना चचा और चाची के...|
    अब इहाँ आई के दिरेक्ट्ली बोल रहे...:)

    उत्तर देंहटाएं
  26. ऊपरवाले की पसंद को दाद देनी होगी, जमीने पर रहके जमीनी बात हो टी २५ साल खुसी खुसी बीत जाते हैं -
    और साल बीते और यह सुन्दर दिन जेहन में कौंधे- यही दुआ है, आशीर्वाद है

    उत्तर देंहटाएं
  27. इधर कुछ दिन अपने अन्तर्मन में ही डुबकी लगाये हुए थी तो इहां पहुंचने में देरी हो गयी :( ....बाकिया फोन से तो मुबारकबादी दिये रहे न ह्म और भाभी से भी बतियाये रहे ..... कौनो बात नही न आप दोनों को बहुत - बहुत बधाई ..... और हाँ अब फोनवा तो आपो करिये लीजिये ... सादर !

    उत्तर देंहटाएं
  28. बिलम्ब के लिए खेद है। आपका भाव-सौन्दर्य अद्वितीय है। ईश्वर आपलोगों की जोड़ी पर सदा मंगल की वर्षा करते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  29. शादी की 25 वीं सालगिरह पर मेरी तरफ से बहुत बहुत बधाई और शुभकामना ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  30. विवाह की वर्षगाँठ की शुभकामनायें लेने का तरीका अच्छा लगा !
    जोड़ी सचमुच ऊपर से ही बन कर आती है , बनी रहे , साथ सुखी रहे सब !
    बहुत शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  31. आज लेटेस्ट पोस्ट पढ़ रहे थे और फिर यहाँ देखा हमारा कोई कमेंट नहीं....
    उस दिन कमेंट जा नहीं रहा था फिर हमारे दिमाग से निकल गया :-(
    शुभकामनाएं तो आप तक पहुँच ही गयी होंगी हमारी ...क्यूँ आपने याद किया होगा न कि अनु ने बधाई ज़रूर दी होगी ?? <3
    its never too late to give best wishes and love...
    (फोटो facebook पर देख लिए थे:-)
    god bless the cutest couple !!

    regards
    anu

    उत्तर देंहटाएं
  32. पता नहीं ये पोस्ट कैसे छूट गई !!देर के लिए क्षमाप्रार्थी हूँ !!आप दोनों को सिल्वर एनिवरसरी की ढेर सारी शुभकामनायें ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  33. वाह ! बहुत अच्छा लगा !सचमुच जोड़ियां ऊपर से ही बन कर आती है !

    उत्तर देंहटाएं
  34. आपकी सादगी के सदके, आपकी पारखी निगाह के सदके!
    शादी की सिल्वर जुबिली मनाने की तहे-दिल से बधाई!!

    उत्तर देंहटाएं
  35. वाह .... कितना अच्‍छा लिखा है आपने ....
    आपकी बहुत सी पोस्‍टों को मिस कर दिया था मैने .... आज कोशिश है पढ़ने की
    विलम्‍ब के लिये क्षमा
    सादर

    उत्तर देंहटाएं