बुधवार, 2 मई 2012

बंगाल का जादू


बंगाल का जादू एतना मसहूर रहा है कि उसका सम्मोहन से बचना मोसकिल है. अऊर ई जादू भी अईसा कि जो इसके सम्मोहन में पड़ा, उसके लिए त बस उससे निकलना लगभग असम्भब है. पाँच-छौ साल बंगाल में रहने के बाद हम आजतक ऊ जादू से बाहर नहीं निकल पाए हैं. एगो अजीब “मिडास टच” है ई सहर में, जिसको छू देता है उसको अंदर से सोना बना देता है. कला, साहित्य, संस्कृति अऊर परम्परा का गंगा भी है ई सहर अऊर सागर भी.

एही सहर में एगो नौजवान सांति-निकेतन के पाँच साल का पढाई बीच में छोडकर, ब्रिटिस बिज्ञापन कंपनी में काम करने लगा. काम के साथ-साथ ऊ “सिगनेट प्रेस” से छपने वाला दू ठो किताब जिम कॉर्बेट का “मैन ईटर्स ऑफ कुमाऊँ” अऊर जवाहर लाल नेहरू का “डिस्कवरी ऑफ इंडिया” का कवर डिजाइन किया. बिज्ञापन कंपनी, जहां ऊ नौकरी करता था, के तरफ से उसको लन्दन भेजा गया. ओहाँ एक रोज ऊ देखने चला गया एगो सिनेमा – इतालवी सिनेमा Ladri di biciclette (बाइसिकल चोर).” सिनेमा हॉल से बाहर निकलने के साथ ही ऊ नौजबान अपना जिन्नगी का सबसे बड़ा फैसला करता है कि उसको बस सिनेमा बनाना है. अऊर उसका ऊ फैसला उसको बिश्व सिनेमा का महत्वपूर्ण नाम बना देता है.
 (पेन्सिल स्केच - मेरे पुत्र अनुभव प्रिय द्वारा)

हम इयाद कर रहे हैं मसहूर फिल्मकार सत्यजीत राय को. एक आदमी के अंदर एतना पर्तिभा देखकर कभी-कभी भगबान के पक्षपाती होने का भरम पैदा हो जाता है. बास्तब में फिल्म बनाना अपने आप में एगो ऐसा आर्ट है, जो एक आदमी का सोच से सुरू होता है अऊर कई लोग मिलकर ऊ सोच को पर्दा पर उतारने में सफल होता है. लेकिन कभी ध्यान से सोचकर देखिये कि हमारा सोच को दोसरा आदमी कैसे महसूस कर सकता है. सायद एही कारण है कि बहुत सा साहित् को जब सिनेमा के पर्दा पर उतारा गया त कम से कम ऊ रचना के लेखक को पसंद नहीं आया.

सत्यजीत राय एही बात नहीं पसंद करते थे. कहानी के चुनाव के बाद, पूरा कहानी को अपने अंदर उतार लेते थे, सही माने में कंसीभ करना या गर्भ धारण करना जईसा. उसके बाद पटकथा, संबाद अऊर सेट डिजाइन का स्केच अपने आप तैयार करते थे. उनका हर स्क्रिप्ट में सेट का डिटेल देखकर दंग हो जाना पड़ता है. हर चरित्र का स्केच ताकि मेक-अप करने वाला बूझ सके कि फलाना कैरेक्टर कैसा लगता है, क्या पहनता ओढता है, कईसा देखाई देता है, कइसे खडा होता है, बैठता है... हर चरित्र का पूरा डिटेल स्केच में. वइसहीं सेट का स्केच, फर्नीचर का पोजीसन, लाईट केतना है, कहाँ से आ रहा है, कौन कहाँ खडा है या बैठा है.

एक एक डायलॉग पर मेहनत. “शतरंज के खिलाडी” सिनेमा के बाद ऊ बोले कि हमको भासा में परेशानी होता है, इसलिए हम हिन्दी/उर्दू/हिन्दुस्तानी में सिनेमा नहीं बना सकते हैं. इसमें अभिमान से जादा, उनका ईमानदारी झलकता है कि अपना कमी मान लिए. उनका सुरू का सिनेमा में पंडित रवि शंकर, विलायत खान साहब अऊर अली अकबर खान साहब संगीत दिए, लेकिन सत्यजीत राय का मानना था कि उनके मन मुताबिक़ काम नहीं होने पर चोटी के संगीतज्ञ लोग से बहस नहीं किया जा सकता, इसलिए बाद के सिनेमा में खुद संगीत देने लगे. एही नहीं, सुब्रत मित्र, जो उनके फोटोग्राफर थे, के साथ अनबन होने पर ऊ फोटोग्राफी भी खुद करने लगे. एडिटर त ऊ थे ही बढ़िया. लोग बताता है फोटोग्राफी खुद करने से उनको एगो फायदा ईहो हुआ कि ऊ एडिटिंग साथे-साथ कर लेते थे. एगो आदमी लेखक, पटकथा-संबाद लेखक, सेट डिजाइनर, संगीत निर्देसक, फोटोग्राफर, एडिटर सब हो अईसा बहुत मोसकिल है मिलना. सायद एही कारण था कि उनको देस-बिदेस में बराबर सम्मान मिला.

हम जानकर इहाँ पर उनका सिनेमा का नाम अऊर काम पर चर्चा नहीं कर रहे हैं, काहे कि ऊ सब त नेट पर उपलब्ध है. हम त बस एही बताना चाह रहे हैं कि सत्यजित राय के महानता में उनका समर्पण का सबसे बड़ा जोगदान है. एगो अऊर बात है, उनके साथ. एक तरफ ऊ समाज के बहुत सा सरोकारी, जटिल अऊर चिंता करने वाला बिसय पर सिनेमा बनाते हैं, दोसरा ओर बच्चा लोग के लिए भी सिनेमा ओतने ईमानदारी से बनाते हैं. एही नहीं, उनका लिखा हुआ उपन्यास अऊर कहानी आझो बच्चा लोग को रहस्य रोमांच का दुनिया में ले जाता है. फेलु दा उर्फ प्रदोस चंद्र मित्तर, तोपसे चाहे प्रोफ़ेसर संकू... ई सब काल्पनिक चरित्र बंगाल के संस्कृति का हिस्सा है, ओइसहीं जइसे ई सब चरित्र के रचनाकार सत्यजीत राय, जिनके हर जासूसी उपन्यास या कहानी के पीछे एगो सार्थक तथ्य छिपा होता था, चाहे कोनो न कोनो नया जानकारी.

गजब के सपना देखने वाले इंसान थे अऊर सपना को हू-ब-हू पर्दा पर उतार देना, अईसा कि देखने वाला को कहीं भी कोनो मिलावट नजर नहीं आये. सत्यजीत राय, हमरे भी पसंदीदा फिल्मकार/उपन्यासकार हैं अऊर हमरे बेटा के भी, जबकि हम दूनो में एक पीढ़ी का फासला है. मगर रचनात्मकता में सत्यजीत राय पुल हैं, दोनों पीढ़ी को जोड़ने वाले.

आज सत्यजीत राय का जन्मदिन है!!

58 टिप्‍पणियां:

  1. अब तो समाज सरोकार और गुणवत्ता युक्त फिल्म शून्य ही बन रही हैं.... जिसे देखो नग्नता परोस रहा है... इतना ही नहीं इसका दोष भी समाज के माथे मढ़ देते हैं कहते हैं समाज जो देखना चाहता है हम वही बना रहे हैं... भाई लोग एक बार भी मेरे से और मेरे तमाम परिचितों से तो कभी पूछने नहीं आये की कैसी फिल्म पसंद करते हो....
    सत्यजीत जी के बारे में सारगर्भित जानकारी प्रस्तुत करने के लिए धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  2. सत्यजीत राय एक महान फिल्मकार और लेखक हैं;आपने आज उनके जन्मदिन पर याद किया और हमें उनका परिचय जिस संजीदगी से दिया वह नायाब है। अनुभव प्रिय द्वारा बनाया गया उनका स्कैच भी उत्तम है। आप दोनों को बधाई की आप कला-संस्कृति के विलुप्त होते इस काल में दो पीढ़ियों को रचनात्मकता के साथ न केवल जोड़ें हैं बल्कि उन्हें जी भी रहें हैं...शायद साहित्य,संस्कृति,कला और अदाकारी यूं ही जिंदा रहते हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  3. सत्यजीत राय एक महान फिल्मकार और लेखक हैं;आपने आज उनके जन्मदिन पर याद किया और हमें उनका परिचय जिस संजीदगी से दिया वह नायाब है। अनुभव प्रिय द्वारा बनाया गया उनका स्कैच भी उत्तम है। आप दोनों को बधाई की आप कला-संस्कृति के विलुप्त होते इस काल में दो पीढ़ियों को रचनात्मकता के साथ न केवल जोड़ें हैं बल्कि उन्हें जी भी रहें हैं...शायद साहित्य,संस्कृति,कला और अदाकारी यूं ही जिंदा रहते हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  4. सत्यजीत राय के फ़ैंस में हम भी हैं। ऐसे बहुमुखी प्रतिभा के धनी कम ही होते हैं। अनुभवप्रिय की प्रतिभा भी बेजोड़ है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सत्यजीत राय गुणवत्ता से से समझौता नहीं करने वाले रचनाकार थे ! इसलिए पीढ़ियों के अंतराल के बावजूद उनकी लोकप्रियता जस की तस है !

    उत्तर देंहटाएं
  6. Aise charitra birle hi hote hai aur yahi charitra auro ko kisi bhi kaal me prerna de sakte hai.. .aapke maadhyam se jaanna hamesha sukhad hota hai ..aur fir hamare "Chhotu Ustad" ki to baat hi nirali hai....

    उत्तर देंहटाएं
  7. Ajeeb baat hai ye comment box ek din pahle kyo chal raha hai....bhavishya ki tippani....WOW....:-)

    उत्तर देंहटाएं
  8. इतना बढ़िया स्केच आपके बेटा ने बनाया , पिता के ऊपर गया है बेटा, शर्तिया नाम रोशन करेगा ! कभी उनके ऊपर कुछ लिखो जिससे हम लोग जान सकें छोटे सलिल को ..
    सस्नेह

    उत्तर देंहटाएं
  9. ''मगर रचनात्मकता में सत्यजीत राय पुल हैं, दोनों पीढ़ी को जोड़ने वाले''
    (शायद कई पीढि़यों को जोड़ने वाले). बढि़या अनूठी प्रस्‍तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  10. आज का सिनेमा तो बस नग्नता को ही नए नए जमे पहनकर पेश कर रहा है ....सत्यजीत जी जैसे महान लोग कम ही मिलते है सत्यजीत जी के बारे में बढ़िया जानकारी दी आपने मामा जी

    संजय भास्कर

    उत्तर देंहटाएं
  11. बढ़िया |
    आभार भाई जी ||

    अनुभव-प्रिय को बहुत बहुत बधाई |

    उत्तर देंहटाएं
  12. सत्यजित दा भारतीय-सिनेमा में बिलकुल अलग मुक़ाम रखते हैं.उन्होंने केवल अपने हुनर के ज़रिये विश्व-सिनेमा में भी पहचान बनाई.आज की दुनिया में हम केवल कल्पना कर सकते हैं.उन जैसा शायद ही दुबारा कोई हो !

    आपने अपनी स्टाइल से और आपके सुपुत्र अनुभव-प्रिय के स्केच ने मन मोह लिया,गुरूजी !

    उत्तर देंहटाएं
  13. जब तक कलकत्ता मे था अक्सर ही उनकी फिल्मे देखने को मिल जाती थी टीवी पर ... कलकत्ता क्या छूटा जैसे सब छूट गया ... अभी मार्च मे कलकत्ता जाना हुआ था तो उनकी फिल्म "जय बाबा फेलूनाथ" की डीवीडी खरीदी ... एक बार फिर बचपन की यादें ताज़ा हो गयी ! दिल्ली मे सीपी के प्लाज़ा सिनेमा के ठीक सामने एक दुकान है 'दा ग्रामाफोन हाउस' के नाम से वहाँ इन का पूरा कलेक्शन है डीवीडी का ... अब की बार आता हूँ तो देखता हूँ !

    सत्यजीत राय साहब को शत शत नमन !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अनुभव बाबू कमाल का स्केच बनाए है आप ... मान गए साहब ... किसी जमाने मे इस पोज़ मे इन का एक पोस्टर मेरे कमरे मे लगा हुआ था ! ऐसे ही अपने और भी स्केच समय समय पर दिखाइए हम लोगो को ! हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनायें स्वीकार करें !

      हटाएं
  14. post to bas ysan hi hai ............evergreen....
    but sketch ..... masallah.....

    aap ka abhar aur 'unko' saratbabu ko sat-sat naman.


    pranam.

    उत्तर देंहटाएं
  15. सत्यजित राय ... बात ही अलग है ...अनुभव की प्रतिभा फेसबुक पर देख चुकी हूँ ... उसकी कामयाबी की बात भी अलग होगी

    उत्तर देंहटाएं
  16. सत्यजीत राय के जन्मदिन पर बहुत अच्छी पोस्ट ... अनुभव द्वारा बनाया गया चित्र बहुत अच्छा लगा ॥शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  17. बड़े भाई, ई पोस्ट पढ़के अपना पहिला पोस्टिंग इयाद आ गया। ढाई दसक पहले जब बंगाल आए थे, त हमको बंगला सीखने का मन हुआ, त अपना स्टाफ़ के बोले कि हमको बंगला स्क्रिप्ट आता है लेकिन हम बंगला बोलना और समझना चाहते हैं क्या करें? ऊ हमको फेलुदार गल्पो सीरिज लाकर दिया। जेतना इंटरेस्टिंग ऊ किताब सब है उतना ही सुंदर उसका भासा और मेजाज।
    बंगाल की पहचान, सान और आन सत्यजीत राय के जनम दिन पर दिया गया आपका ई नायाब तोहफ़ा बड़ा अच्छा लगा। पिछले सप्ताह सत्यजीत राय फ़िल्म इंश्टीच्यूट गए थे। एक अलग दुनिया है।

    उत्तर देंहटाएं
  18. बेटा का बनाया फोटो बता रहा है कि वह कलात्मक अभिरुचि में आपसे किसी मायने में पीछे नहीं है। आशीष।

    उत्तर देंहटाएं
  19. सत्यजीत राय की फिल्मो से प्रेरणा लेकर कई फिल्मकारों ने उत्कृष्ट फिल्मो का निर्माण किया है...और हम दर्शक लाभान्वित हुए हैं....

    रेखाचित्र में चेहरे की रेखाओं के साथ भाव भी उभर कर आए हैं...
    अनुभव को अशेष शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  20. सत्यजीत राय के बारे में नै बातें पता चली - आपके माध्यम से ...

    बाकि रखाचित्र बहुत सुंदर बन पड़ा है, डिटेल अच्छी निकाली है, आपका बेटा भी बहुत प्रतिभा का धनी दिखता है - उसके उम्दा और सार्थक भविष्य के लिए शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  21. सत्यजीत जी के बारे में सारगर्भित जानकारी प्रस्तुत करने के लिए धन्यवाद...आपके बेटे अनुभव द्वारा बनाया गया स्केच,बहुत ही अच्छा लगा,अनुभव को मेरी ओर से उसके उज्वल भविष्य की शुभकामनाए,..

    MY RECENT POST.....काव्यान्जलि.....:ऐसे रात गुजारी हमने.....

    उत्तर देंहटाएं
  22. सत्‍यजीत रे पर बहुत अच्‍छी जानकारी। चित्र के लिए बेटे को आशीष।

    उत्तर देंहटाएं
  23. सत्यजीत राय के लघु उपन्यास वाकई कमाल हैं फेलु दा की तो बात ही निराली.आज उनके जन्म दिन पर अच्छी और अलग सी जानकारियों वाली यह पोस्ट सार्थक है. और बेटे का बनाया चित्र तो - माशाल्लाह ...गजब की प्रतिभा है.

    उत्तर देंहटाएं
  24. इसे कहते हैं फिल्म में जान लगा देना, तभी तो स्तरीय फिल्में बनती भी थीं, आजकल तो पैसा कमाने के फार्मूले से बनती हैं फिल्में।

    उत्तर देंहटाएं
  25. सत्‍यजित राय की याद के साथ अनुभव का स्‍केच। अच्‍छा अनुभव है।

    उत्तर देंहटाएं
  26. जानकारी भरी पोस्ट...रेखाचित्र बहुत सुंदर!!!

    उत्तर देंहटाएं
  27. बहुत बढ़िया श्रद्धांजलि सत्यजीत रे साहब को उनके जन्मदिन पर और हम लोगों को इतने अच्छे लेख का तोहफा। रेखाचित्र वाकई कमाल है। आपको और आपके सुपुत्र दोनों को बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  28. बंगला सिनेमा के क्षेत्र में सत्यजीत दा के नाम से ख्याति पाने वाले सत्यजीत राय बंगला भाषियोंयों के ही दिल में नही बल्कि संपूर्ण विश्व में अपनी प्रतिभा के लिए मशहूर है। उनके जन्म दिवस पर आपकी यह पोस्ट उनके प्रति आपके भावनात्मक संबंध को दर्शाता हैं । इसके इतर आपके पुत्र अनुभव द्वार बनाया गया स्केच उसकी कलात्मक रूझान को प्रकट करता है । मेरी कामना है कि अनुभव इस क्षेत्र में अपनी विशिष्ट पहचान को बनाए रखते हुए भविष्य में नए पर्तिमानों को स्पर्श करे । प्रस्तुति अच्छी एवं ज्ञानपरक लगी । मेरे पोस्ट पर आकर मेरा मनोबल बढ़ाने के लिए आपका विशेष आभार - धन्यवाद सहित ।

    उत्तर देंहटाएं
  29. Badee hee achhee jaankaaree dee hai aapne! Aaapko padhne me ek alag hee aanand aata hai!

    उत्तर देंहटाएं
  30. बंगाल का नाम बचपन से ही एक जादू की ही तरह दिमाग में रहा । बाद में महसूस भी किया । मेरे जितने भी प्रिय फिल्म निर्देशक हैं वे अधिकांशतः बंगाली ही हैं । आपका आलेख व प्रिय अनुभव का स्केच आपके कलात्मक दृष्टिकोण की गहराई का परिचायक है ।

    उत्तर देंहटाएं
  31. जबसे कुछ पढने का शौक हुआ था तो उस लिस्ट में सबसे ऊपर जिन लेखकों का नाम याद आता है, उनमें सबसे ऊपर और सबसे ज्यादा लेखक बंगाल के ही रहे| आशुतोष मुखोपाध्याय, सत्यजित बाबू, विमल मित्र, ताराशंकर वन्दोपाध्याय, शंकर बाम, समरेश बसु कोइ एक हो तो उसके अकेले के गुण गाये भी जाएँ, लेकिन बहुमुखी प्रतिभा की बात हो तो वन एंड ओनली 'सत्यजित राय|' 'फेलू दा' अपने प्रिय पात्रों में से एक रहे हैं| ध्यान है शनिवार को दूरदर्शन पर क्षेत्रीय भाषा की फ़िल्में दिखाई जाती थी तो सब टाईटल्स के भरोसे जमे रहते थे हम बुद्धू बक्से के आगे| वैसे फिल्म के मामले में एक और शख्सियत का नाम ध्यान आता है जो अपनी फिल्म के 'आगे-पीछे' 'अन्दर-बाहर' 'ऊपर-नीचे' सब जगह होता था लेकिन वो कहानी फिर सही| राय बाबू से किसी का कोइ मुकाबला ही नहीं लगता|
    आईये हमारे भतीजे की कुछ बात करें, कुछ विशिष्ट चीजें ऐसी होती हैं कि उनकी विशिष्टता ही स्वाभाविक होती है| 'अनुभव प्रिय' अगर प्रतिभाशाली न होते तब हमें अचम्भा होता, ये रेखाएं किसी मंजे कलाकार की हैं| बानगी दिखाने के लिए धन्यवाद| कला के और भी नमूने दीखते रहें तो अच्छा लगेगा|
    11.56 हुए थे जब सत्यजित राय साहब को हैप्पी बर्थ डे wish किया था, वो कमेन्ट उड़ गया, अभी एक दिन बाद में शुभकामनायें पहुंचें|

    उत्तर देंहटाएं
  32. आपकी पोस्ट 3/5/2012 के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें

    चर्चा - 868:चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    उत्तर देंहटाएं
  33. आपकी कलम से लिखा यह लेख किसी जादू से कम नहीं ... उत्‍कृष्‍ट लेखन के लिए आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  34. सत्यजीत राय के जन्मदिन पर बहुत अच्छी पोस्ट
    उत्‍कृष्‍ट लेखन

    उत्तर देंहटाएं
  35. पाथेर पांचाली जैसी लाजवाब फिल्मों कों बनाने वाले सत्यजीत राय कों बांगला और हिंदी सिनेमा जानने वाला शायद ही भुला सके ... उनको याद करा के आपने एहसान ही किया है नयी पीड़ी पे ...
    शुक्रिया ...

    उत्तर देंहटाएं
  36. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आज चार दिनों बाद नेट पर आना हुआ है। अतः केवल उपस्थिति ही दर्ज करा रहा हूँ!

    उत्तर देंहटाएं
  37. जादू के कमाल पर धमाल मचा रहा है सत्यजीत राय का स्केच।
    ..शानदार पोस्ट के लिए आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  38. इतनी रूचि से और आस्था से आपने सत्यजीत रे को श्रद्धांजलि दी है ....काबिले तारीफ है आपका प्रयास ....उससे भी ज्यादा कबीले तारीफ़ है अनुभव के द्वारा बनाया गया स्केच ....आप दोनों को बधाई और शुभकामनायें भी ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  39. bete ko hamari taraf se shubh-aashish dijiyega. saty jeet rai k janmdin par bahut acchha lekh.

    (aap to shayad hamare har tarah ke lekhan par na aane ki kasam khaye bhaithe hai.....koi baat nahi dekhte hain bhai kab tab behen se roothe rahenge)

    उत्तर देंहटाएं
  40. सत्यजित राय स्वप्न को जाग्रत दृष्यों में प्रस्तुत करने वाले कलाकार ,चिन्तक भी - उन्हें नमन करती हूँ !
    पुत्र में भी वही लक्षण चरितार्थ हो रहे हैं .
    इस प्रस्तुति के लिये आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  41. सत्यजित राय के जन्मदिन इतनी सुंदर पोस्ट और अनुभव का बनाया स्केच जबरदस्त है. बंगाली और हिंदी सिनेमा के इस महान जादूगर के बारे में कई अनसुनी बातें जानने को मिली.

    उत्तर देंहटाएं
  42. सत्यजीत राय के जन्मदिन पर बहुत अच्छी पोस्ट

    उत्तर देंहटाएं
  43. बंगाल का जादू -सत्यजीत रे के जन्मदिन पर सुंदर आलेख । स्केच भी बहुत सुंदर ।

    उत्तर देंहटाएं
  44. दो ही शख्शियत हरफनमौला हुए हैं.. एक टैगोर.. दूजे सत्यजित राय... बंगाल देश की सांस्कृतिक राजधानी तभी तो है... भारतीय सिनेमा को वैश्विक पहचान सत्यजित राय जी से ही मिली है... अनुभव का स्केच आपके आलेख से बढ़िया है... उसे शुभकामनाये....

    उत्तर देंहटाएं
  45. हमें बंगाली नहीं आती लेकिन उनकी फेलु दा सीरीज की फ़िल्में फिर भी देख डालीं...क्यूँ के सत्यजीत जी की फ़िल्में देखना एक ऐसा अनुभव है जिस से बार बार गुजरने का दिल करता है...

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  46. बंगाल से बहुत गहरा सम्बन्ध रहा है, न होता तो कैसा होता कह नहीं सकता।
    अधिक दिन नहीं हुए जब धनबाद में रहना होता था मेरा, कॉलेज के बंगाली साहित्य वाले कोने में ही पड़ा रहता था। अच्छे दिन थे वो, और लिखने पढने में कोई दिक्क़त न होने के कारण और भले। खैर..
    सत्यजीत बाबू और उनके रचे चरित्र, मन में बसे रहे आते हैं।
    श्रद्धानत शुभकामना।

    अनुभव बाबू को ढेर सारा आशीष और शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  47. आपके पुत्र में गज़ब की प्रतिभा है, सलिल भाई!! बहुत प्रभावी स्केच बनाया है उसने.... आखिर बेटा किसका है! उसकी प्रतिभा और फले फूले, परवान चढ़े- यही दुआ।
    आपके आलेख ने अंत तक बांध कर रखा। वाकई अद्भुत कलाकार, साहित्यकार थे सत्यजीत राय!

    उत्तर देंहटाएं
  48. aadarniy bhai ji ----bahut dino baad aape blog dwra aapse rubarun ho rahi hun .bahut dino tak anupasthiti ho jaati hai.
    aadarny sir ke baare me main kya likhun .han!itna jaroor jaanti hun ki log unke naam ko padh kar hi film ko dekhne bhaga karte the .
    unki filmon me insaan khud ko hi film ka paatr samajh leta tha.
    dil se koti koti naman unhe
    aapki baaton se mujhe bahut hi sambal milta hai .yun hi apne sneh banaye rakhiyega
    hardik naman kesaath
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  49. हमारी टिप्पणी नहीं दिख रही बाबू.... कहीं यह भी बंगाल के जादू का कमाल तो नहीं? किसी राजकुमार को बुला कर उसे कारा से छुड़वाइए!

    उत्तर देंहटाएं
  50. हमारी टिप्पणी नहीं दिख रही बाबू.... कहीं यह भी बंगाल के जादू का कमाल तो नहीं? किसी राजकुमार को बुला कर उसे कारा से छुड़वाइए!

    उत्तर देंहटाएं
  51. आपके इस आलेख से सत्यजीत राय जी की प्रतिभा के अनेक आयाम उद्घाटित हुए हैं।
    आभार आपका।

    उत्तर देंहटाएं
  52. डॉ.सत्यजित रॉय की फिल्मों का मैं बड़ा शौकीन रहा। हाँ, उनके जीवन की बारीकियों के विषय में बिलकुल अनजान था। आज जीवन के विषय में पढ़कर संतोष हुआ कि मुझे भी अच्छी और बुरी फिल्मों को परखने की क्षमता है। मुझे याद है-जब शतरंज के खिलाड़ी पिक्चर हम तीन-चार मित्र एक साथ देखने गए थे। पिक्चर समाप्त होने के बाद जब लाइट जली, तो देखा कि मेरे जैसे एक-दो लोगों को छोड़कर हल में लगभग सभी सो गए थे। इन्होंने शायद एक प्लेटफार्म नाम से सिरियल बनाया था। वह अद्भुत था।
    आयुष्मान अनुभव प्रिय द्वारा बनाया डॉ. रे का स्केच बड़ा ही आकर्षक है।

    उत्तर देंहटाएं
  53. बाऊ जी , अनुभव द्वारा बनाया गया सत्यजीत राय का स्केच बहुत ही सुन्दर है |

    सादर

    उत्तर देंहटाएं