रविवार, 20 फ़रवरी 2011

ये आकाशवाणी है!!


(कहानी लिखना हमरे बस का नहीं है. कभी मन से कोसिस भी नहीं किये. अपने दोस्त से चैट करते करते एक दिन लगा कि हमलोग केतना बात कर जाते हैं, अगर इसको जोड़कर देखा जाए तो एगो पूरा कहानी बन सकता है. ऐसे ही कोई बाप और बेटी का चैट के माध्यम से कहानी कहने का कोसिस किये हैं.)

डैडी, एक बहुत पुराना गाना हैचले जाना नहीं, नैन मिला केये नूरजहाँ ने गाया है क्या?”
नहीं! सबको एक बार कंफ्यूज़न होता है कि ये नूरजहाँ का गाया हुआ है.
फिर किसने गाया है?”
रजनी ने.
“?????”
सॉरी बेटा! लता मंगेशकर ने.
तो आपने रजनी क्यों कहा.. मैंने तो कभी इनका  नाम नहीं सुना..
हाँ, ये कोई प्लेबैक सिंगर नहीं हैं.
डैडी!  आर  यू  ऑलराईट!!
मुझे क्या हुआ है. इस गाने से एक पुराना किस्सा याद गया. हमारे घर के सामने रजनी आण्टी याद हैं तुझे?”
वही ना जिनको रेडियो, टीवी और ट्रांज़िस्टर से चिढ़ है. जिनके आते ही ये सब बंद कर दिये जाते थे!
हाँ वही! वो बहुत अच्छा गाती थी. ये गाना उसने पहली बार गाया था, हमारे सामने वाले पार्क में दुर्गा पूजा के समय. और इतना अच्छा गाया था कि बस तबसे इस गाने को सुनकर लता मंगेशकर से भी पहले रजनी याद आती है, आज भी.
वो गाना भी गाती थीं, विश्वास नहीं होता.
गाती थी... बहुत अच्छा गाती थी. कमाल ये कि कभी सीखा नही उसने गाना. संगीत का कोई ज्ञान नहीं था उनको. लेकिन सुनकर कोई कह नहीं सकता कि एक भी सुर गलत लगा हो या गाना लय और ताल से बहक गया हो.
कैसे पॉसिबल है!!
चमत्कार कह लो... सिर्फ  रेडियो  पर गाने सुनकर, उनको दोहराकर.
ग्रेट! रेडियो से इतनी नफरत और गाना रेडियो पर सुनकर सीखा.
सिर्फ संगीत ही नहीं, स्पोर्ट्स में भी अव्वल थी वो.. अपने स्कूल और कॉलेज के सारे इवेंट्स में वो आगे रहती थी. लड़की होकर वो जब मोटर सायकिल चलाती थी, तो सारे हमउम्र लड़के  सिर झुका लेते थे.
आई कांट बिलीव!
एक बार तेरी दादी की तबियत ख़राब हो गई थी और घर पर कोई नहीं था, तो वो कार में बिठाकर हस्पताल ले गई. ये तो बाद में पता चला कि वो उसकी पहली ड्राइविंग थी!
गाना..  स्पोर्ट्स..  एड्वेंचर... क्या पर्सनालिटी थी वो!
गाना उसका पहला शौक था. रात को जब सबलोग सोने चले जाते तो बिछावन में ट्रांज़िस्टर लेकर गाने सुनती थी. गर्मियों में छत पर देर रात तक. और जब टेप रिकॉर्डर का ज़माना आया तब तो उसका पागलपन पूछो मत.
वो क्या!
किसी को बर्थडे पर अपनी आवाज़ में गाने रिकॉर्ड करके हैप्पी बर्थ डे कैसेट भेजना, घर पर किसी के लिये कोई मेसेज हो तो रिकॉर्ड करके बताना. अपनी आवाज़ में गाने गाना और रिकॉर्ड करके सुनना सुनाना.
इंट्रेस्टिंग!
कोर्स की कहानियाँ नाटक की तरह पढ़कर सबको सुनाती और कविताएँ गाकर.
सो स्वीट!
लेकिन उसका रेडियो सुनने का शौक गया नहीं. नाटक, समाचार और गाने सुनना और उनकी नकल करना.
ह्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म!!
फिर उसकी शादी तय हो गई, एक बड़े अच्छे परिवार में. लोग जान पहचान के थे अंकल के दोस्त. लड़का  दिल्ली में कोई बड़ा ऑफिसर था.
अरे वो मैरिड हैंबुआ बताती थी कि उनकी शादी नहीं हुई!
शादी की तारीख तय होने के बाद, एक रोज़ गर्मी की रात छत पर ट्रांज़िस्टर बजाकर कुछ पढ़ रही थी. तभी उसने अचानक ट्रांज़िस्टर उठाया और छत से नीचे आँगन में फेंक दिया.
अरे! हुआ क्या था!
ट्रांज़िस्टर पर समाचार में यह ख़बर आई थी कि दिल्ली से आने वाला प्लेन क्रैश हो गया था और उसमें सवार सारे लोग मारे गये थे. उसका होने वाला पति भी उसी विमान से रहा था.
सो सैड!!
जिस रेडियो से उसे इतना लगाव था उसकी एक ख़बर ने उसका पूरा जीवन बदल दिया.

52 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी ये छोटी सी चैट कहानी अच्छी रही। पर खटकने वाली बात ये है कि जीवन से भरी और इतनी हिम्मत वाली ये लड़की इस घटना से इतना टूट गई कि आजीवन इससे नहीं उबर पायी। ये सही है कि उसके लिए ये बहुत बड़ा सदमा था पर जिंदगी कुछ वर्षों में आपने लय में लौट ही आती है। और दुख सुख तो आते जाते रहते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. कुछ लोग अपनी संवेदनाओं से इतने गहरे से जुडे होते हैं कि एक हादसा उनके जीवन को समाप्त कर देता है। वो उन संवेदनाओं के बिना जीने की कल्पना भी नही कर सकते। हार मान कर ज़िन्दगी नही चला करती। मार्मिक कहानी है। शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  3. कुछ कहने को बन नहीं रहा.. जिंदगी के विडम्बना को आकाश्बानी के माध्यम से मार्मिकता से दिखाया गया है..

    उत्तर देंहटाएं
  4. दुखांत कथा...अत्यंत मार्मिक...
    एक हादसा जीवन की दिशा ही बदल देता है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सशक्त रचना है.लेकिन दुखांत है.निराशावादी न होकर यदि वह महिला संगीत को ही श्रधान्जली का माध्यम बनाती तो उत्तम होता.

    उत्तर देंहटाएं
  6. @ सोमेश सक्सेना:
    मानव मन और मानव तन शायद इस विश्व की सबसे अजूबी रचना हैं, जाने कितने और कैसे सर्किट्स और कैसे कैसे कनैक्शन्स। कई बार बहुत बड़ी बड़ी बातें झेल जाता है हमारा मन और जरा से धक्के से चूर-चूर।

    सलिल भैया, काहे झूठ बोलते हैं? इतने अच्छे से तो कहानी का प्लाट सोचा है आपने, और क्या चाहिये।

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी ये कहानी अंदर तक कुरेद गयी.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  8. इतनी सशक्त स्त्री ने ऐसा क्यों किया मगर....इनके बारे में और जान्ने लायक बातें होंगी....प्रेरणा वाली कहानी....
    न जाने आपकी ये कहानी उनको कैसी लगेगी...लेकिन ये कहानी हम तक पहुंचाने के लिए धन्यवाद...
    प्रणाम

    उत्तर देंहटाएं
  9. Aah! Kab kaunsa hadsa kispe kya asar kare,kah nahee sakte! Salahe dena aasaan ho ta hai,par jo tan lage,so tan jane!

    उत्तर देंहटाएं
  10. कभी कभी मजबूत से मजबूत इंसान भी एक दम से टूट जाता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. हाँ सलिल भैया ! होता है ...ऐसा भी होता है .....मेरी जानकारी में भी एक बार ऐसी घटना हो चुकी है .......एक सुन्दर सी ..दबंग सी लड़की ....उन्मुक्त जीवन की स्वामिनी ......लोग डरते थे ......शायद इसलिए कि वह सी.पी.एम. वाली थी. मगर उस मोहल्ले में वही एक ऐसा पुष्प था जिसे गुलाब ..जूही..चमेली जैसा कुछ भी कहा जाता था. लडके भ्रमर बनते ...पतंगा बनते ...पता नहीं क्या क्या बनते ......जलते ...हाथ मलते ......मगर वह गाँव के एक गंवार, डरपोक और बुड़वक किस्म के युवक को आमंत्रित कर रही थी .......बुड़वक की जान निकलती थी सी.पी एम. के नाम से . तभी एक हादसा हो गया ....दिन दहाड़े उसकी आँख के सामने किसी ने उसके पिता को गोली मार दी. उसके बाद से उस सुन्दरी के जीवन में जो परिवर्तन हुआ वह चौकाने वाला था .....उसके दुश्मनों को भी तरस आता था उस पर .......अब आगे नहीं बता पाऊंगा भैया ......

    उत्तर देंहटाएं
  12. हालांकि कई बातें सोची-कही-समझी जा सकती हैं, पर मेरे पास कभी-कभी कहने को कुछ रह नहीं जाता।
    पर जैसा कि अक्सर कह देता हूँ, "काश! ये कहानी ही हो।"

    और चूंकि मैं मान रहा हूँ कि यह कहानी है, तो यह कहना कि आप कहानी नहीं लिख सकते, मेरी तरफ से सिरे से ख़ारिज है :)

    उत्तर देंहटाएं
  13. अतिशय दुखद!! मर्मस्पर्शी !!
    सामान्यतः बहादुर महिला के साथ यह नहीं होता, पर दुखद तब होता है जब जो ज्यादा पसन्द हो उसी से दुख भी मिलने लगे।

    उत्तर देंहटाएं
  14. वाकई मार्मिक कहानी है! सुन्दर और सफल प्रयास!

    उत्तर देंहटाएं
  15. ट्रेजडी क्‍वीन टाइप हीरोइन की कहानी.

    उत्तर देंहटाएं
  16. ओह ..कैसे एक हादसा किसी इंसान को और उसकी जिंदगी को पूरी तरह से बदल देता है...
    मार्मिक कहानी .

    उत्तर देंहटाएं
  17. ऱउआ खातिर कवन विशेषण चुनी हमरे समझ के बाहर बा।जबले अच्छा विशेषण ना मिली तब तक अच्छा कमेंट खातिर इंतजार करे के पड़ी।
    धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  18. बड़े भाई, सहज कथानक के साथ सरल शिल्प से कथानक रचने वाले आप एक सशक्त कहानीकार हैं। आज के इस लेखकीय दौर में जहां लेखन मात्र एक नारा या फ़ैशन बन कर रह गया है, कथ्य और शिल्प की यह सादगी मन को छू लेने वाली है। मानवीय संबंध की कहानी को आपने बेहद आत्मीय शैली में सुनाया है।

    उत्तर देंहटाएं
  19. सितार के टूटे तारो को फिर से कस कर नई धुन छेड़ने वाला कोई नहीं मिला होगा |

    लता मंगेशकर के पहले रजनी का नाम ?

    शायद डैडी को ही ये काम करना था पर उन्होंने किया नहीं |

    उत्तर देंहटाएं
  20. क्या कहें दाऊ ! बस अवि भाई की बात पर आमीन कह रहे हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  21. आपके जन्म दिन की पोस्ट से पहले ही अश्क कहाँ सूखे थे कि
    आप ने और सैड कर दिया.
    अब और मत रुलाओ ,मित्र.
    सलाम.
    कहानी बहुत ही अच्छी थी.

    उत्तर देंहटाएं
  22. कुछ हादसे जिंदगी की दिशा ही बदल देते हैं ...
    मार्मिक !

    उत्तर देंहटाएं
  23. speechless dadu......!!! ab kya kahoon....sannnn reh gayi.....dont do this again.....daravni kahaniyaan sunaate ho.....

    par kya khoob kahani kehte ho.....dobara mat kehna ke aap kahani nahin likhte

    उत्तर देंहटाएं
  24. कहानी पर अभी कुछ न कहूँगी..केवल आपकी कहानी कला पर कहूँगी...

    बहुत ही प्रभावशाली ढंग से आपने कहानी कह दी है....

    एकदम कसी सधी कहानी है,जो पाठक के मन को छू आह निकाल देने में समर्थ है...

    लिखते रहिये कहानियां...

    उत्तर देंहटाएं
  25. maarmik ... kabhi kabhi एक pal में ही जीवन badal जाता है इंसान का ....
    आपकी kahaani अच्छी लगी ... aap kahaani भी अच्छी kah सकते हैं ... बस koshish कर के dekhiye ....

    उत्तर देंहटाएं
  26. मार्मिक कहानी...कौन कहता है आप कहानीकार नहीं है...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  27. bade bhaiya sansmaran ka dukhad ant nahi bhaya...aap to positive soch wali baaten hi likho...!

    उत्तर देंहटाएं
  28. बहुत ही मार्मिक कहानी...बिलकुल जीवंत चित्रण....
    पाठकों को बांधे रखने में सक्षम

    उत्तर देंहटाएं
  29. ... मार्मिक कहानी है! सुन्दर और सफल प्रयास!

    उत्तर देंहटाएं
  30. बहुत ही प्रभावशाली ढंग से आपने कहानी कह दी है..
    मेरी हौसला अफज़ाई के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया.

    उत्तर देंहटाएं
  31. मार्मिक कहानी। आपका यह प्रयोग शत प्रतिशत सफल है।

    उत्तर देंहटाएं
  32. उन दिनों रेडियो पर बजते हिंदी फिल्मी गीत ही युवा दिलों के प्रेम की अनुभूति और उसकी मौन अभिव्यक्ति के माध्यम हुआ करते थे। वह संगीत अंतस को कहीं बहुत गहरे जोड़ता था। वह डोर टूट गई,अब रेडियो रहे कि जाए।

    उत्तर देंहटाएं
  33. सलिल जी, कहानी बहुत ही अच्छी रही। पढ़ते-पढ़ते सोच रहा था उसे रेडिया से इतना प्रेम था वो अचानक नफरत में कैसे बदल गया। आखिर में जब प्लेन क्रैश होने वाली लाइन पढ़ी तो सच कहूं दिल धक से बैठ गया। बहुत दुख हुआ। रजनी के साथ बहुत बुरा हुआ।

    उत्तर देंहटाएं
  34. "Bikhare Sitare" pe aapkee tippanee kaa blog pe hee jawaab diya hai! Please padh len!

    उत्तर देंहटाएं
  35. Uffo! Mujhe qatayi bura nahee laga aapki baat ka!Maine khud mazakiya lahjeme jawaab diya tha!
    Maafee maang ke mujhe sharminda na karen!
    Comment bura lagta to mai publish na karti!

    उत्तर देंहटाएं
  36. कमेन्ट तो पहले कर चुकी हूँ लेकिन आज जीवन का एक खास दिन था ,दुखद भी! तो लगता था कि कोई आवाज़ दे कर बुलाये "निम्मो दी" और तभी आपका कमेन्ट देखा बस आँखें भीग गयी। शुक्रिया मेरे भाई। सदा सुखी रहो।

    उत्तर देंहटाएं
  37. अविस्मरणीय प्रसंग...
    एकलव्य जैसी जीवटता वाली शख्सियत के लिये.

    उत्तर देंहटाएं
  38. आद.सलिल जी,
    सचमुच बातों ही बातों में आपने इतनी मर्मस्पर्शी कहानी बना डाली !
    आपके कहानी लिखने का यह अंदाज़ भी अच्छा लगा !

    उत्तर देंहटाएं
  39. संवादों को पिरोकर एक बहुत अच्छी कहानी गढ़ दी है बाऊ जी |

    सादर

    उत्तर देंहटाएं