गुरुवार, 2 दिसंबर 2010

फ़ेसबुक की दीवार से अंतरिक्ष दर्शन


हमरे फेसबुक के देवाल पर लिखा हुआ दूठो छोटा कबिता आपके सामने पेस कर रहे हैं. आजकल थोड़ा ब्यस्तता बढ़ गया है अऊर परेसानी भी. इसलिए आज एही झेलिये.


सूरज और सर्दी
दिन चढ आया
बाहर फिर भी अंधेरा था
सूरज बाबू कहीं दिखाई नहीं दे रहे.
छत पर चढ़कर मैंने जब आवाज़ लगाकर उनसे पूछा
वो बोले, मैं लेटा हूँ बादल की तोशक के अंदर
चुपचाप दुबककर.
मुझको मत डिस्टर्ब करो तुम.
जाकर तुम भी सो जाओ
बाहर तो देखो,
बाहर कितनी सर्दी है!!

सात फेरे
ना जाने कितनी सदियों से
एक उपग्रह
चक्कर लगा लगा कर ग्रह के
अपने मन की बात बोल ही बैठा उसको.
कहने लगा नहीं अब मुझसे होता ये सब
तुम बेकार में सूरज के इतने चक्कर काटे जाते हो
आओ मेरी उँगली थामो
गाँठ जोड़कर,
सूरज की अग्नि के फेरे सात लगा लें
इंसानों की जोड़ी हम तारों ने तो बनवाई कितनी
आओ मिलकर अपनी जोड़ी आज बना लें!!


51 टिप्‍पणियां:

  1. सूरज और आपका संवाद अच्छा लगा.. वाकई बाहर बहुत सर्दी है.. सूरज का बादल के तोशक में होना अच्छा विम्ब है... साथ ही सात फेरे वाली कविता भी अच्छी है...

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह सलिल जी...... खूब कही.

    @मुझको मत डिस्टर्ब करो तुम

    सीधे सीधे लिखे देते अभी टाइम नहीं है...... कोनों आलतू फ़ालतू लिखने का..... बहुते बुजी शेदुले है..... इत्ती कविता लिखना जरूरी था क्या ........ खामख्वाह सूरज की अग्नि के चक्कर लगा रहे हो...., हा हा हा हा

    बदिया मौसमी कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  3. दोनों ही कवितायेँ मजेदार.... वाकई ठण्ड बहुत हो गई है ग्वालियर में भी... सूरज दादा रजाई में देर तक सो रहे है इसीलिए देर से दर्शन दे रहे है.....

    उत्तर देंहटाएं
  4. जिस परेशानी का आपने जिक्र किया है .... दुआ करता हूँ वह दफ्तरी ही हो ! शेष सब शुभ है ! आपकी ओर से भी यही आशा है !

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह! बहुत ही सुंदर अभिव्यक्ति। गहरे भाव छुपे हैं इन कवितओं में।
    आशा ही नहीं विश्वास है कि परेशानियां दूर हो गई होंगी।

    उत्तर देंहटाएं
  6. व्यस्तता के साथ परेसानी भी ..?? ठीक तो हो सलिल भाई ??
    हमें कुछ परेसानी दे दो ! शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  7. मौसम का हाल सुनाती दोनों कवितायेँ अच्छी लगी ...!

    उत्तर देंहटाएं
  8. अहसास को सहलाती सामयिक कवितायें

    उत्तर देंहटाएं
  9. awwwwwwww......soooo sweet.....dono ho bohot bohot mazedaar hain, khaaskar ye

    इंसानों की जोड़ी हम तारों ने तो बनवाई कितनी
    आओ मिलकर अपनी जोड़ी आज बना लें!!

    abhi hosh nahin hai unhein, ke kitne insaanon ki band bajaayi hai, jab khud ki bajegi tabhi hosh aayega....chaliye, karwaaiye shaadi inki bhi... ;)

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत खूब सलिल जी,
    दोनो कविताये अच्छी हैं
    सूरज से संवाद बहुत बढिया लगे,
    ईश्वर आपकी परेशानी जल्दी हल करें
    शुभकामनाये

    उत्तर देंहटाएं
  11. Salil sir,
    rachnaein to main aapki sab padhata hun kyonki usmein apni maati ki sugandh pata hun.per kavita ke madhyam se jo bahar aaya hain man ko anandit kar gaya. Kabhi mauka mile to mere blog par bhi aayein.

    उत्तर देंहटाएं
  12. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  13. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  14. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  15. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  16. Salil sahib- suder kavitaye. lekin upagrah ji ko thoda cheta dijiyega ki shadi ka laddu man me phode to sahi rahega varna hakikat to thodi kadwi hoti hati hai...

    उत्तर देंहटाएं
  17. दोनों कविताएँ बहुत अच्छी लगीं ...

    इंसानों की जोड़ी हम तारों ने तो बनवाई कितनी
    आओ मिलकर अपनी जोड़ी आज बना लें!!

    बहुत सुन्दर ...

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत ही सुन्दर प्यारे से भाव लिए, कविताएँ ...

    व्यस्तता की बात तो ठीक है..पर परेशानी कैसी...ईश्वर करे शीघ्रातिशीघ्र दूर हो जाए..आपकी परेशानी

    उत्तर देंहटाएं
  19. वाह बेहतरीन रचनाएँ हैं...


    काफी दिनों से बात नहीं हुई... कैसे हाल हैं?

    उत्तर देंहटाएं
  20. वाह वाह वाह....

    कहाँ तक गयी आपकी दृष्टि.... गज़ब कमाल है....

    मन मुग्ध कर गयी आपकी दोनों ही रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  21. इंसानों की जोड़ी हम तारों ने तो बनवाई कितनी
    आओ मिलकर अपनी जोड़ी आज बना लें!!

    वाह..बहुत खूब, सलिल जी..
    अनछुए विषय पर बिल्कुल नए अंदाज़ की कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  22. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  23. कविताओं के माध्यम से बात करना कोई आपसे सीखे...वाह...अभी से ही सूरज को ठण्ड लगने लगी अभी तो दिसंबर शुरू ही हुआ है...डरपोक कहीं का...:--)

    और हाँ आप व्यस्त रहें ये हमें मंजूर है लेकिन परेशान रहें ये कतई मंजूर नहीं...तुम अपना रंजो गम अपनी परेशानी मुझे देदो...


    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  24. सलिल जी,
    बेहद मदमस्त कबिताएँ

    ठिठुरती ठंड में सूरज का दुबक कर सोना, और ग्रहों का थकहार कर अब पाणिग्रहण फेरे!!

    अद्भुत!!

    पर ई ब्यस्तता तो ठीक है, परेसान काहे हो? तनिक सेर काहे न कर देते?

    उत्तर देंहटाएं
  25. सलिल जी, इस अलग क्रियेटिविटी के लिए आपको शुभकामना !

    उत्तर देंहटाएं
  26. पहली बार आपके व्लाग पर आयाऔर बहुत खुबसूरत कविता पढने की मिली , देर में आने की गलती की

    उत्तर देंहटाएं
  27. aap hamse pahle baazi maar liye chacha ji....hum soche the ki aapka facebook wala sab lagayenge... :)

    उत्तर देंहटाएं
  28. @ बुझाता है कि बहुत बड़ा मिस्टेक हो गया हमसे.. सोचबे नहीं किए कि हमरा परेसानी वाला बात से एतना लोग परेसान हो जाएगा... सिवम बबू त तड़ से फोन करके हाल पूछ लिए... माफ कीजिए, परेसानी तनी ऑफिसियल था, अब जईसे आया था ओइसहीं खतम भी हो जाएगा... एतना प्यार मत देखाईए आप लोग की जीना त जीना,मरना भी मोस्किल हो जाए!!एगो बात कातसल्ली हो गया कि हम न होंगे तो हमें याद करेगी दुनिया!!

    उत्तर देंहटाएं
  29. Ummeed karti hun,pareshani ab tak apne ghar chali gayi hogi!
    Kavitayen to bahut badhiya hain! Derse aayi hun,blog pe,net band tha!

    उत्तर देंहटाएं
  30. कुछ भी लिखूँ,कविताएँ मेरी टिप्पणी से ऊपर के स्तर की ही रहेंगी!

    उत्तर देंहटाएं
  31. चला बिहारी ब्लॉगर बनने ने कहा…
    @ बुझाता है कि बहुत बड़ा मिस्टेक हो गया हमसे.. सोचबे नहीं किए कि हमरा परेसानी वाला बात से एतना लोग परेसान हो जाएगा... सिवम बबू त तड़ से फोन करके हाल पूछ लिए... माफ कीजिए, परेसानी तनी ऑफिसियल था, अब जईसे आया था ओइसहीं खतम भी हो जाएगा... एतना प्यार मत देखाईए आप लोग की जीना त जीना,मरना भी मोस्किल हो जाए!!एगो बात कातसल्ली हो गया कि हम न होंगे तो हमें याद करेगी दुनिया!!


    चले कुछ तस्सली हो गया... नहीं तो आपका सुभचिंतक हमहू परेसान कर रहे थे.......

    आप भूलने वाली शक्सियत नहीं हो.

    उत्तर देंहटाएं
  32. माने टीप पढ़-पढ़ कर सोचे रहे थे कि ऐसा का गलत हो गया...... परेशानी का आ गई... और हम मजाक मा बात कर रहे हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  33. @ दीपक जी!
    फिल्म बावर्ची का डायलॉग बोलने का मन कर रहा है, इतना प्यार दिखाना अच्छी बात नहीं.

    उत्तर देंहटाएं
  34. बहुत अच्छा कविता. 'तोशक' देखकर जी गदगदा गया.

    उत्तर देंहटाएं
  35. ऑफ़िस से लौटकर आपकी पोस्ट पढ़ी और फ़ोन भी मिला दिया था, कि :) :) @ ’सम्वेदना के स्वर’ देख लिए, सो फ़ोन काट दिया। रही बात परेशानियों की, तो सलिल जी जिस दिन कोई परेशानी न आये उस दिन परेशान हो जाईयेगा।
    पहले जो मिस्टेक या मिस्टेकवा आपने किया सो किया, क्लैरिफ़िकेशन में जो ब्लंडर आप कर गये हैं, सही नहीं किया आपने। बता दिया है बस्स, जब हमें गुस्सा आता है फ़िर छोटा बड़ा नहीं देखते, हाँ।

    उत्तर देंहटाएं
  36. सूरज, चाँद और तारों की ये कविताएँ अच्छी लगी ...अच्छा मानवीकरण है ।

    उत्तर देंहटाएं
  37. बहुत संवेदनशील लिखा है ... दूसरी वाली तो खास पसंद आई ...

    उत्तर देंहटाएं
  38. दोनों ही कविताएँ अच्छी लगीं !
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    उत्तर देंहटाएं
  39. दोनो कविताओं में कवि का अस्तित्व से जुड़ाव प्यारा लगता है।

    उत्तर देंहटाएं
  40. सात फेरे--- बहुत उमदा अभिव्यक्ति है। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  41. पहली प्यारी कविता और दूसरी गहरी कविता |

    सादर

    उत्तर देंहटाएं