शनिवार, 8 जनवरी 2011

पृथ्वी पुत्र

बचपन में हमलोग बईठकर एगो खेल खेलते थे. एक तरफ से एगो टीम का लोग कोनो जगह या ब्यक्ति का नाम बोलता था अऊर दोसरा टीम के तरफ से उस जगह या आदमी से सम्बंधित बात, एक सब्द में बोलकर उसका जवाब दिया जाता था.जईसे पहिला टीम से आवाज आया बापू दोसरा टीम जवाब देता था महात्मा गाँधी. फिर दोसरा टीम बोला नेताजी, जवाब मिला सुभास चंद्र बोस. अब एही से देख लीजिये कि नेताजी बोलने सए कोई लालू जादब का नाम नहीं याद करता हैचाहे बापू कहने से भी अपने पिता के जगह रास्ट्रपिता को ही याद किया जाता है. अंग्रेजी में इसको सॉब्रिके (Sobriquet) कहते हैं. 
कोई कोई जगह के साथ ओहाँ का कोनो परसिद्ध चीज का नाम अईसा जुट जाता है कि जगह नाम सुनते ही चीज का फोटो दिमाग में छप जाता है. अब आगरा का नाम सुनने से ताजमहल का फोटो अपने आप देखाई देने लगता है. मथुरा का पेड़ा, इलाहाबाद का अमरूद, करनाल का चप्पल, भदोही का कालीन, कानपुर का ठग्गू का लड्डू, पटना का गोलघर, सिलाव का खाजा, सरईसा का खईनी आदि. सब जगह से, सब निकाल दीजिये जिसके लिये परसिद्ध है उसका इम्पॉर्टेंस खतम हो जाता है. अब भदोही से कालीन निकाल दीजिये कौन जानता है कि उत्तर प्रदेस में इस नाम का कोनो जगह है. बस एही समझिये कि नाम में का रखा है, सेक्सपियेर साहेब एही देखकर बोले होंगे, काहे कि एही जो चीज है गुलाब को गुलाब बनाता है अऊर करनाल को करनाल, नहीं नाम में का रखा है! अब सन् 2010 में से घोटाला अऊर कॉमनवेल्थ खेला में से कालमाडी निकाल दीजिये दूनो मॉस्ट ऑर्डिनरी या लाइक एनी अदर इयर एण्ड गेम रह जाएगा.
देखिये एही फेरा में लखनऊ छुटिये गया. लखनऊ का नाम सुनकर लोग को भूलभुलैया याद जाता है.  मगर हमको नहीं. हमको नाम सुनते ही अमृतलाल नागर जी याद आते हैं अऊर हमरा तीर्थस्थान गुरुदेव के. पी. सक्सेना जी का निबास याद आता है. इलाहाबद में घर होने के बावजूद भी हम कोनो परीच्छा का सेंटर लखनऊ भर दिये थे, ताकि हमरा तीर्थयात्रा हो सके. हमरे साथ हमरा एगो दोस्त भी था, जिसके मामा के घर हमलोग को रुकना था. रास्ता में एगो पुराना मकान देखाकर दोस्त का भाई हमको बताया कि एही मकान में परसिद्ध वायलिन वादक वी.जी. जोग रहते थे कभी. आज भी उनका नेम प्लेट लगा हुआ है. मन खुस हुआ, मगर हम बेचैनी से पूछे कि के.पी. सक्सेना का घर कहाँ है. अऊर खुसी का ठिकाना नहीं जब पता चला पास में.
नहा धोकर निस्चिंत हुए अऊर साम को बोले ले चलो उनके घर. हमरे पिता जी साथ में थे, अऊर गुरुदेव भी रेलवे में थे इसलिये भी रिस्ता बना हुआ था. हलका रोशनी में छोटा सा मध्यमवर्ग का घर. हम उनका पैर छुए अऊर उनका सिर पर हाथ पड़ा. फिर बहुत सा बात, हमसे पढाई लिखाई का अऊर पिता जी से रेलवे का. एतना सांति से बात करते कि लगबे नहीं करता कि एही आदमी एतना मजेदार हास्य लिखता होगा. परिबारके लोग से मिले अऊर बस हमरा तीरथ हो गया.
 
परिच्छा के बाद धमक गये नागर साहब के घर. लगबे नहीं किया कि हमलोग अजनबी हैं. बईठ गये आँगन में अऊर लगे बतियाने. हम चारो तरफ नजर दौड़ाए आँगन में अऊर घर पर. वही मकान था जिसमें श्याम बेनेगल का फिल्म जुनून का पूरा सूटिंग हुआ था. हमको आजतक अपना जीबन में रोमाण्टिक कहानी के नाम पर पर्ल बक का उपन्यास कम माई बिलवेडअऊर रस्किन बॉण्ड का लघु कथा फ्लाईट ऑफ पिजन्ससबसे अधिक पसंद है. रस्किन बॉण्ड के इसी कहानी पर ससि कपूर का बनाया हुआ था सिनेमा जुनून.
नागर साहब अऊर सब लोग को भूलकर हम 1857 में खो गए थे, सिनेमा के सब कलाकार के याद में. ओही सीढी से ऊपर जाकर हमको रूथ लाबादूर अऊर कोना में ऊपर ताकता हुआ जावेद ख़ान अऊर सामने वाला कमरा में बेग़म देखाई दे रही थी. डरी हुई मिसेज़ लाबादूर अऊर खाँसती हुई अम्मी जान (इस्मत आपा). हमको लगा कि हम ओही सिनेमा के एगो हिस्सा हैं. सब कुछ हमरे आँख के सामने हो रहा है. जब बर्तमान में लौटे तो मुँह से सवाल फूटा, “फिल्म की शूटिंग के लिये कैसे खोजी उन्होंने यह जगह?”
पृथ्वीराज के बेटे की फिल्म थी.मना नहीं कर सकापूज्य नागर जी ने कहा.
पृथ्वीराज के बेटे, यानि ससि कपूर. जितना अच्छा कलाकार, उससे भी अच्छा फिल्ममेकर. उनका प्रोडक्सन हाऊस फिल्मवालासके लिए बहुत अच्छा-अच्छा फिलिम का निर्मान किये ससि कपूर, जैसे 36 चौरंग़ी लेन, विजेता, जुनून, अजूबा, कलयुग आदि. सही माने में पृथ्वीराज के पुत्र. मुम्बई जब हम गये तो जुहु तट पर जानकी कुटीर नाम का जगह पर पेड़ के झुरमुट में बना पृथ्वी थियेटर्स देखाई दिया. हर अच्छे कलाकार का तीरथ अऊर हमरे लिये मंदिर से कम नहीं. इसी के आसपास कभी स्मिता पाटील, नसीरुद्दीन शाह,  कुलभूषण खरबंदा (अपने ही फेभरेट लोग का नाम लिख रहे हैं) और उनसे पहिले पापा जी पृथ्वीराजकपूर रहते थे. ससि जी, पापा जी के परम्परा को खाली जीबित ही नहीं रखे, बल्कि उसको आगे बढाये.साथ मिला पत्नी जेनिफर केंडल का, जो खुद महान सेक्सपियराना के गुरू जेफरी केंडल की पुत्री थीं. मुम्बई में जब पृथ्वी थियेटर्स हम गये तो हाथ उठाकर भगवान से एक्के प्रार्थना किये (जो हम जानते हैं कि कभी पूरा नहीं हो पाएगा अब) कि एक बार इस मंच पर ऑथेलो करने का मौका दिला दो.
हमरी सिरीमती जी के आँख में आज भी ससि कपूर का पुराना सिनेमा देखकर एगो अजीब चमक जाता है, जिसको देखकर हम तनिक भी जलन नहीं महसूस करते हैं. हम तो खुदे चाहते हैं ससि कपूर को. आज ससि कपूर हस्पताल में बहुत दिन से भरती हैं. एगो सोख,चंचल और अच्छा  इंसान बिछावन पर है, पता नहीं केतना सुई भोंकाया है देह में, चेहरा पहचान में नहीं आता है, बोल नहीं पाते हैं. आखिरी बार कोनो पुरस्कार समारोह में उनको देखे थे व्हील चेयर पर जब कुछ भी नहीं बोल पा रहे थे.
हे भगवान! नाट्यकला का सच्चा पारखी, इस आदमी को जल्दी से अच्छा कर दो!

43 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी पोस्ट पढते पढते जनून फिल्म ही आँखों के आगे घूम रही थी, खासकर उ पेड़ों पर फांसी पर लटके योधा........ और जब नसीरूद्दीन आ कर कहता है, नवाब साहेब (सायद यही) हम जंग हार गए हैं......... और हाँ, वो फकीर .............

    @एक बार इस मंच पर ऑथेलो करने का मौका दिला दो.
    राम जी जरूर सुनेगे...........

    उत्तर देंहटाएं
  2. शशि कपूर के प्रशंसकों में तो हम भी हैं .भगवान उन्हें जल्द अच्छा करे .

    उत्तर देंहटाएं
  3. जुनून मुझे भी बहुत पसंद है पर यह पता नहीं था कि इसकी शूटिंग नागर जी के घर में हुई थी। जानकारी के लिए शुक्रिया।

    शशि कपूर जी का सार्थक सिनेमा में बहुत योगदान है। ईश्वर उन्हे लम्बी आयु प्रदान करे।

    उत्तर देंहटाएं
  4. शशि जी के लिए हम भी चिंतित हैं...जयपुर में सन उन्नीस सौ बहत्तर में पृथ्वीराज थियेटर समारोह हुआ था तब उन्हें चीफ गेस्ट के रूप में बुलाया था...हम तब नाटक के प्रति बहुत दीवाने थे...(आज भी हैं) कालेज के बाद का सारा समय जयपुर के रविन्द्र मंच पर गुज़ारा करते...तभी शशि जी मुलाकात हुई और एक आध घंटे की नहीं कोई तीन चार घंटे की...अपने नाटक प्रेम पर चर्चा रहे...बहुत दिलचस्प इंसान है वो...
    जब से खोपोली आये थे पृथ्वी थियेटर देखने की तमन्ना पाले हुए थे आख़िर अपना साठवां जनम दिन हमने पृथ्वी थियेटर जा कर मनाया...वहाँ गये नाटक देखा आत्मा तृप्त हो गयी...जनम दिन यादगार रहा...हमारे लिए भी वो तीर्थ स्थान से कम नहीं...

    हम भी शशि जी के शीघ्र स्वास्थ्य के लिए प्रार्थना करते हैं...

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  5. ओह तो ये बात है शशि कपूर बीमार है इसी कारण आज हमें दो बार उनके बारे में देखने और पढ़ने का मौका मिल गया | आज सुबह ही एन डी टीवी पर भी उन पर एक फीचर देखा वहा भी उनके थियेटर प्रेम के बारे में बताया जा रहा था | मुझे नहीं पता था की उनका थियेटर से इतना जुड़ाव है हा उनके प्रोडक्शन में अच्छी फिल्मो के निर्माण के बारे में पता था | दो चीजे और यहाँ जोड़ दो सुबह बताया की वो फिल्मो से नहीं जुड़ना चाहते थे जबकि बाल कलाकार के रूप में वो दर्जन भर फिल्मे कर चुके थे सिर्फ पैसे के लिए फिल्मे करना शुरू किया उनका पहला प्यार थियेटर ही था और दूसरी की उन्होंने कई ब्रिटिश और अमेरिकन अंग्रेजी फिल्मो में भी काम किया था जो कलात्मक थी व्यावसायिक नहीं | वो शीघ्र स्वस्थ हो जाये यही कामना है |

    उत्तर देंहटाएं
  6. संस्मरण बढ़िया लगा, रोचक।

    शशिकपूर जी को मैं भी काफी पसंद करता हूँ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बढ़िया संस्मरण....
    शशि जी शीघ्र स्वस्थ हों यही हमारी प्रार्थना है ....

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपकी दिवानगी का रोचक संस्मरण!!

    शशिकपूर जी के लिये शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  9. रोचक संस्मरण
    शशि कपूर जी के लिए शीघ्र स्वाथ्य लाभ की कामनाये।

    उत्तर देंहटाएं
  10. संस्मरण अच्छा लगा , शशि जी और शम्मी जी दोनों अस्पताल में है ..दोनों के जल्दी ठीक होने की दुआ करे

    उत्तर देंहटाएं
  11. शशि कपूर ने सिनेमा के इस अति व्यवसायिक दौर में एक से एक श्रेष्ठ फिल्मे दी और साथ ही प्रथ्वी थियेटर को अपना जीवन समर्पित किया \करीब पांच साल पहले दिनेश ठाकुर द्वारा मंचित नाटक " हमेशा ""प्रथ्वी थियेटर में देखने का मौका मिला था |समय से पहले थियेटर में पहुँच गये थे और तभी देखा था बाहर केंटिन के पास एक बेंच पर शशि कपूर जी को बिलकुल सफेद कुरते पजामे में बैठे हुए उनसे बात करने का अवसर भी मिला पर शब्द ही गुम हो हो गये इतनी बड़ी शख्सियत को अपने सामने पाकर |सिर्फ नमस्ते कर उनको निहारे आगे बढ़ गये |मालूम पड़ा वे हर शो में इसी तरह मुस्कुराते हुए वहां बैठते है |
    ईश्वर से प्रार्थना है की जल्द ही स्वस्थ हो |
    आपका संस्मरण ,श्रधेय के .पि.सक्सेनाजी का आत्मीय भरा मिल्न सब कुछ मानस पर अंकित हो गया \|

    उत्तर देंहटाएं
  12. sachmuch.... jis samay log cinema men risk lene se bachte the...shashi ji ne saarthak cinema ko ek sahara diya.... ek umda abhineta hone ke sath sath ek achhe nirmata bhi the.. bhagwaan unka swasthya behtar karen.....

    उत्तर देंहटाएं
  13. पृथ्वीराज के बेटे, यानि ससि कपूर. जितना अच्छा कलाकार, उससे भी अच्छा फिल्ममेकर. उनका प्रोडक्सन हाऊस “फिल्मवालास” के लिए बहुत अच्छा-अच्छा फिलिम का निर्मान किये ससि कपूर, जैसे 36 चौरंग़ी लेन, विजेता, जुनून, अजूबा, कलयुग आदि.

    पृथ्वी पुत्र शीघ्र स्वस्थ हों ...शुभेच्छा

    उत्तर देंहटाएं
  14. शशि कपूर के बारे में इतनी गहन जानकारी नहीं थी, लेकिन फ़िर भी वो हमारे बहुत पसंदीदा अभिनेता रहे हैं। कालेज में गये तो ये पसंदगी और बढ़ गई, अपना एक मित्र दिखने में काफ़ी कुछ शशि कपूर जैसा दिखता था। ’मृच्छकटिकम’ पर आधारित फ़िल्म ’उत्सव’ भी शायद शशि जी ने ही बनाई थी। उनके शीघ्र स्वास्थ्य-लाभ की ईश्वर से प्रार्थना करते हैं।
    लखनऊ का अपना संस्मरण बताकर आपसे रश्क की मात्रा बढ़ा ली है आपने। के.पी. साहब और नागर जी से आशीर्वाद पाया है आपने, थोड़ा सा सरकाईये इधर भी। नागर जी के ’एक दिल हजार अफ़साने’ ने ही बहुत असर डाला था अपने अप्र, लेकिन वो कहानी फ़िर सही।

    उत्तर देंहटाएं
  15. 2010 बोलने से 4-5 नामों का कम्पटीशन हो जायेगा।

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत ही प्यार से लिखा है आपने....शशि कपूर से सम्बंधित सभी यादें ताजा हो गयीं...

    पत्नी की मृत्यु के बाद से ही शशि जी ने अपना खयाल रखना छोड़ दिया था...इतने स्लिम..हमेशा फिट रहने वाले शशि जी, ने इतना वजन बढ़ा लिया था .देख कर ही दुख होता था.
    वे जल्दी से अच्छे हो जाएँ और फिर पहले की तरह अपना ख़याल रखना शुरू कर दें...यही प्रार्थना है ईश्वर से.

    उत्तर देंहटाएं
  17. लखनऊ ...के०पी० सक्सेना...नागर जी...शशि कपूर...पृथ्वी थिएटर...बात निकलेगी तो बहुत दूर तलक जायेगी...यादों के एक लंबे सफर पर ले जाने के लिए धन्यवाद . शशि कपूर जी जल्द स्वस्थ हों यही प्रार्थना है.

    उत्तर देंहटाएं
  18. शशि कपूर साहब को जल्द से जल्द स्वास्थ लाभ हो यहीं दुआ है !
    आपकी एक और बेहद उम्दा पोस्ट .... बहुत बहुत आभार ! आपकी यादें इतनी हसीन है कि कभी कभी जलन होती है !

    वैसे ... एक बात पूछनी थी ... मैनपुरी के नाम से क्या याद आता है ?

    उत्तर देंहटाएं
  19. शशि कपूर शीघ्र स्वस्थ हों,यह कामना हमारी भी है।
    संस्मरण बहुत ही आत्मीयता से लिखा है, और अपने साथ कई दौर को जीवंत कर गया।
    लिची से जुड़े सहर का नाम गिनैबे नहीं किए।

    उत्तर देंहटाएं
  20. के पी सक्सेना जी के व्यंग के तो हम भी बहुत कायल है...... यह पोस्ट हर मायने में बहुत सुंदर लगी. बस शशी कपूर जी के भगवान तनिक जल्दिये ठीक कई दा.........

    उत्तर देंहटाएं
  21. पृथ्‍वी पुत्र शीर्षक पढ़ कर हम एकदम नहीं बूझ पाए थे कि ये कुछ शशि कपूर का मामला निेकलेगा, पृथ्‍वी थियेटर भी तो संजना जी के ही जिम्‍मे है शायद.

    उत्तर देंहटाएं
  22. एक पृथ्‍वी पुत्र ही दूसरे पृथ्‍वी पुत्रों को याद करता है। (पुत्रियां बुरा न मानें,वे भी ऐसा करती हैं।)

    उत्तर देंहटाएं
  23. फोटबा तं बहुत सुंदर लगावा है ससि कपुरबा का ...

    उत्तर देंहटाएं
  24. सीपिया टोन वाली शशि की यह तस्वीर गजब खोज लाये बिहारी भाई...वाह

    उत्तर देंहटाएं
  25. आपका पोस्ट पढ़कर अईसा मजा आया कि एके सुरूकिए में पूरा पढ गए।
    खुश रही-ठंढा में एकरे के आशीर्वाद समझी।

    उत्तर देंहटाएं
  26. फिल्म कभी कभी में जो मित्रवत पिता का रोल शशि कपूर जी ने किया था ,उसने पिता-पुत्र के संबंध को नये आयाम दिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  27. आपका कहानी सुनकर हमको अपने पिताजी का बात याद आ जाता है. बहुत मजेदार कहानी होता है आपका उर उतने मजेदार तरह से आप सुनाते भी हैं.
    एक ठो बात और बता देते हैं आपको इसी बात पर. हमारा जो किरदार है ना रामोदार. ऊ उन्ही के कहानी से लिए हैं.
    आपके लिखने का तरीका सबसे अच्छा लगता है. इन्तजार करते हैं आपके लिखने का.

    उत्तर देंहटाएं
  28. इस संस्मरण में अमृत लाल नागर, के. पी. सक्सेना, वी.जी. जोग जैसे नामों को पढ़कर बहुत अच्छा लगा।
    श्रीमती एन.राजम् के बाद वी.जी.जोग का वायलिन वादन मुझे पसंद है।

    शशि कपूर जी के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ के लिए शुभकामनाएं।

    सरस प्रस्तुति के लिए बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  29. शशी कपूर -शम्मी कपूर आदि के शीघ्र स्वास्थ्य-लाभ की कामना करने में हम भी आपके साथ हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  30. शशि कपूर शीघ्र स्वस्थ हों,यह कामना हमारी भी है। संस्मरण बहुत ही आत्मीयता से लिखा है...

    उत्तर देंहटाएं
  31. शशि कपूर मुझे भी बहुत अच्छे लगते थे, ईश्वर से यही प्रार्थना है कि वे शीघ्र ठीक हो जाएँ !

    उत्तर देंहटाएं
  32. Nice post .
    जनाब को आदाब ! आपके लिए नया साल अच्छा गुज़रे ऐसी हम कामना करते हैं। आपकी फ़ोटो अच्छी लगी।

    हम तो बस आप ही को देखा किये।
    हम फ़क़ीरों को यादे मौला के सिवा और चाहिए ही क्या ?
    लेकिन आप ने बनाई है तो पोस्ट को भी सराहना पड़ेगा और है भी अच्छी,
    सचमुच !
    आपकी जिज्ञासाओं को शांत करेगी


    प्यारी मां
    ये लिंक्स अलग से वास्ते दर्शन-पठन आपके नेत्राभिलाषी हैं।
    http://lucknowbloggersassociation.blogspot.com/2010/12/virtual-communalism.html

    http://ahsaskiparten.blogspot.com/2010/12/patriot.html


    http://ahsaskiparten.blogspot.com/2011/01/standard-scale-for-moral-values.html

    http://mankiduniya.blogspot.com/

    http://pyarimaan.blogspot.com/

    http://commentsgarden.blogspot.com/

    http://ahsaskiparten.blogspot.com/

    http://islamdharma.blogspot.com/

    http://vedquran.blogspot.com/

    मेरे दिल के हर दरवाज़े से आपका स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  33. हम भी ससी कपूर, जुनून और रस्किन बॉंड का फैन हूँ।

    उत्तर देंहटाएं
  34. sachche me bade bhaiya aap bhi prithvi putra hai...kaise kaise dimag me baitha lete hain puranka baat aur fir jhat se likh marte hain...:)

    sachche bole, ham inme se jinke bare me aapne likha jayda jankari nahi rakhte, sirf Shashi kapoor ko chhod kar,lekin fir bhi pura padh gaye...aur aisan laga jaise ham bhi aapke saath the, jab aap nagar sahab ke angan me the...:)

    dhanya ho aap bade bhaiya...:)

    waise ham bhi kamm dhanya nahi hai, aakhir bhai jo thahre..:D....u bhi chhotka

    उत्तर देंहटाएं
  35. aadarniy bhai ji
    aapke blog par aakar ek alag tarah ki sukhanubhuti hoti hai.
    bahut hi achhi bhashhha aur achhe shabdo ka prayog
    aapki lekh ki rochkata ko badha deta hai.aadarniy shashi sir ke baare me itna kuchh pata hi nahi tha vo to aapke lekh ko padh kar pata chala. karan main bhi pichhle teen saalo se sir-dard se pidit hun isliye t.v,news vagairah bilkul bhi dekhti nahi hun han! kabhi -kabhi sunne me aa jata hai.
    ishwar se yahi prarthana hai ki aadarniy shashi kapoor ji jald se jald achhe ho jaayen ,yahi ham dil se unko shubh -kamna dete hain.
    bhai ji ,aapko bahut bahit dhanyvaad meri truti batane ke liye .mujhe bahut hi achh laga.
    asal me type karte samay mere man me yah baat aai thi fir socha ki pura kar lun tab sahi karungi.fhir vo dhyan se hi utar gaya ,sham tak use theek kar lungi.aapko punah hardik dhanyvaad
    meri galti ki taraf mera dhyan dilane ke liye.
    aapki bhasha meri baliya ki bhasha se milti hai aur main bhi allahabad ki rahne wali hun aur shayd sir k.p.saxena ji ko hamare swasur ji kafi achhi tarah se jante hain.
    bahut hi achha sansmaran laga.
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  36. देखिये क्या समय आ गया है....आपके माध्यम से पता चला कि शशि कपूर जी अस्वस्थ हैं,नहीं तो अखबार का कोनो पन्ना,टी वी का कोनो सेकेण्ड इसे खबर नहीं बनाया....

    बड़ा ही रोमांचक लगा आपका संस्मरण...

    उत्तर देंहटाएं
  37. चचा जी अब का बताएं... ससी कपूर जी सनीमा के मजेदार कलाकार हैं.... परफेक्ट. हमको भी अच्छा लगते हैं. मगर झूठ नहीं बोलेंगे हम उनका फाइन-उन तो नाहीये रहे हैं मगर आपके आलेख के अंत तक आते-आते आँख लोर गया. "हे भगवान! नाट्यकला का सच्चा पारखी, इस आदमी को जल्दीसे अच्छा कर दो!" ई तो हुई एक बात और दूसरी बात ई कि इ संस्मरण पढना हमरे लिए एक उपलब्धि जैसा रहा. केतना बारीकी से आप स्मृति की श्रृंखला की कड़ियाँ जोड़ते हैं....... ! सब कुछ जीवंत हो उठता है. !

    उत्तर देंहटाएं
  38. भोत संस्मरणात्मक हो रहे हो बाबू ..खैतियत तो hai ...?

    उत्तर देंहटाएं
  39. पुरानी फिल्मो में शशि कपूर और आज कि फिल्मो में शाहरुख़ खान बस इनके अल्वा कभी कोई तीसरा फ़िल्मी हीरो फेवरेट नहीं हुआ !!!!
    शशि साहब ज़ल्द ही अच्छे होंगे ये हमें उम्मीद है !!!

    उत्तर देंहटाएं
  40. आपका लेख पढ़कर कुछ कुछ गर्व सा हुआ कि मैं इसी अवधी संस्कृति का हूँ|

    सादर

    उत्तर देंहटाएं