बुधवार, 31 अगस्त 2011

ईद और सरहद पार के रिश्ते


हर सरकारी नौकरी के तरह हमरे पिताजी को भी राष्ट्रीय त्यौहार के अलावा कुछ त्यौहार में छुट्टी मिलता था. मगर नौकरी अइसा था कि मजबूरी में काम करना पड़ता था. बहुत सा लोग खुस होकर काम करते थे, काहे कि उस रोज के काम का ओभर-टाइम मिलता था; कुछ लोग मन मारकर काम करते थे काहे कि नहीं चाहते हुए भी ओभर-टाइम करने के लिए मजबूर थे. मगर हमरे पिताजी तीसरा कैटेगरी के आदमी थे. ऊ छुट्टी लेकर पटना आ जाते थे परिबार के बीच. हम लोग भी उनका इंतज़ार करते थे, उनसे बतियाने के लिए बात सोचकर रखते थे. कुल मिलाकर उनका आना हमलोग का त्यौहार होता था.
अब होली, दीवाली, दसहरा, तीज, छठ आदि पर त उनका आना सोभाविक था. मगर ईद पर उनका नहीं आना भी ओतने सोभाविक था हम लोग के लिए. आपलोग सोचियेगा कि हिंदू के इहाँ ईद नहीं मनाया जाता होगा, इसलिए उनका नहीं आना सोभाविक बात है. मगर बात ऊ नहीं था.
बास्तव में तीन गो दोस्त थे हमरे पिताजी के. अंसार अहमद, जुल्फिकार अली सिद्दीकी (उनको लोग भुट्टो साहब कहते थे) और फखरे आलम. अंसार चचा लंबे चौड़े पठान थे. एक बार किसी झगड़े के कारण (हमलोग तब छोटे थे इसलिए बहुत सा बात हमलोग को नहीं बताया जाता था) कोई पिताजी को धमकी दिया था. तब अंसार चचा ने खुलेआम चैलेन्ज देकर कहा था, “वर्मा के ऊपर हमला करने वाले को पहले अंसार अहमद के सीने पर वार करना पडेगा!” और पटना में रहकर भी हमलोग को इत्मिनान था कि उनके होते पिताजी का कोई कुच्छो नहीं बिगाड़ सकता.
सिद्दीकी चाचा बहुत सांत आदमी थे. एकदम संत परकिर्ती के. हमलोग को एकदम देबता लगते थे. पिताजी उनको हमेसा पंडित जी कह दिया करते थे. आलम चाचा एकदम हीरो आदमी थे. सिनेमा के हीरो जइसा. घर पर भी उर्दू कम अंगरेजी जादा बोला जाता था, उनके. आज भी याद आता है जब चाची जी उनको बुलाती थीं तो कहती थीं, “लिसन (Listen!)! अऊर हमलोग समझ नहीं पाते थे कि ई कउन भासा का सब्द है.
बस एही तिर्मूर्ती के कारण पिताजी ईद के छुट्टी में पटना नहीं आते थे अउर नौकरी भी नहीं करते थे. ई तीनों लोग का कहना था कि जबतक वर्मा नहीं हो ईद में तब तक ईद मनाना, न मनाने बराबर है. अउर पिताजी भी बस हाजिर हो जाते थे. हमलोग भी कभी नहीं सिकायत किये कि पटना काहे नहीं आते हैं ईद के छुट्टी में.
बहुत साल बाद जब हम शारजाह गए, तब जाकर हमको असली आनंद समझ में आया कि काहे पिताजी ईद में पटना नहीं आते थे. जावेद भाई पाकिस्तान के रहने वाले थे. ईद के रोज उनकी पत्नी सहजादी भाभी अपना तीनों बच्चा लोग के साथ-साथ हमरी बेटी के लिए भी नया कपड़ा खरीदकर ले आती थी. हम सब लोग नया कपड़ा पहिनकर उनके घर पर उनके मेहमान लोग का स्वागत करते थे. अगर कोई नहीं देखाई दिया तो ओही लोग ताजुब से पूछता था कि तुम्हारी दूसरी बहन नहीं दिखाई दे रही है. अउर हमरी सिरीमती जी को देखकर ऊ लोग को इत्मिनान होता था.
महीना भर से तैयारी. जावेद भाई रात को हम सब लोग को लेकर मेला घुमाने जाते थे. समुंदर के किनारे खिलाना-पिलाना सब करते थे. कभी महसूस नहीं होने दिए कि हम लोगों में हिंदू-मुसलमान, हिन्दुस्तान-पाकिस्तान, हिन्दी-उर्दू का केतना फरक था.
हमरे इहाँ लौट आने के बाद भी त्यौहार, सालगिरह पर फोन करते रहे अउर सम्बन्ध बना रहा. बाद में एक रोज जब शारजाह फोन किये त कोनों जवाब नहीं मिला. फोन कट गया बुझाता था. एक रोज फोन आया कि जावेद भाई का इलाज चल रहा है इस्लामाबाद में अउर सबलोग पाकिस्तान चला गया है. मेल से पता चला कि उनका तबियत सुधर रहा है. उसके बाद केतना कोसिस किये मगर कोई खबर नहीं. एक दिन उनकी बिटिया साइमा का फोन आया.
“अस्सलाम वालेकुम अंकल!”
“वालेकुम अस्सलाम! बेटा, जावेद भाई कैसे हैं?”
“अंकल ठीक हैं. अम्मी आपसे बात करेंगी.”
उसके बाद फोन कट गया. जब दोबारा फोन नहीं आया त हमही फोन किये. उधर से सहजादी भाभी का आवाज सुनाई दिया, “भाई जान! जावेद का दिसंबर में इंतकाल हो गया!” अउर उनका रोना सुरू, “एक बार रेणु भाभी से बात करवा दीजियेगा.”
“भाबी शाम को घर जाकर आपसे बात करवाता हूँ.” अउर हम फोन रख दिए. दिन भर जावेद का सकल नजर के सामने घूमता रहा. साम को जब सिरीमती जी को बोले तो उनका अफसोस के मारे मुँह से आवाजे नहीं निकल रहा था. बोलीं कि हम नहीं बात कर पाएंगे. पुराना एल्बम, वीडियो देखते रहे अउर बिस्वास नहीं हुआ कि ई जिंदादिल आदमी जो हमरे परिबार का हिस्सा था, नहीं रहा!!
आज साइमा का फेसबुक पर स्टेटस देखकर मन भर आया. ऊ लिखी है कि
“आज जब पापा को ईद मुबारक कहने के लिए फोन की तरफ हाथ बढ़ाया तो याद आया कि वो तो अव्यक्त में समा गए हैं. मिस यू पापा!”

38 टिप्‍पणियां:

  1. लोग चले जाते है बस उनकी यादें रह जाती है ...

    आपको भी सपरिवार ईद की हार्दिक मुबारकबाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. ईद मुबारक हो, सलिल भाई... और मीठी-मीठी यादें भी!

    उत्तर देंहटाएं
  3. ईद मुबारक...

    रिश्ते किसी सरहद को नहीं मानते ...

    साइमा जी!!!अव्यक्त अपने ढ़ग से सहयोग करता है...आपके दिल की आवाज आपके अब्बा हुजूर के पास जरुर पहुंच गई होगी और उन्होंने आपको ईद-मुबारक भी जरुर कहा होगा!!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. गिनती की साँसें और अनगिनत कहानियाँ।

    आपको रिश्ते संजोने आते हैं सलिल भैया।

    ईद मुबारक।

    उत्तर देंहटाएं
  5. हर साल ईद आती है और साथ आते हैं जावेद भाई ...ईद मुबारक ..साइमा को भी ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. मन जिगर को आन्दोलित करता अनुभव!! बहुत कुछ व्यक्त होने के बाद भी ये रिश्ते अव्यक्त ही रह जाते है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपके अन्दर जावेद भाई हमेशा रहेगें। कितने बरसों से तो बिना बात किये मैं भी उनसे जुड़ा रहा हूं।

    ज़मीन के हिस्से पर एक लकीर खीचं कर क्या इंसानियत को बाधां जा सकता है ?

    ईद की शुभकामनायें और तीज़ मुबारक !!

    चैतन्य आलोक

    उत्तर देंहटाएं
  8. आलेख पटनिया स्टाईल मे पढते हुये बहुते आनंद आ रहा था, अंत में जावेद भाई के बारे में पढकर मन बहुते खिन्न हो गया. सहजादी भाभी और साईमा के गम के साथ साथ आपकी पीडा भी कम नही है. पर क्या किया जा सकता है? शायद यही संसार है.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  9. करेजा निकाल के रख देते हैं सलिल भैया आप तो..डूब के लिखते हैं और डूबोए बिना मानते नहीं।

    उत्तर देंहटाएं
  10. महोदय...
    गूंजअनुगूंज पर मेरी नई पोस्ट का हिंदी रूपांतर दे दिया गया है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. बड़ा ही भाबुक कर दिए हैं इस पोस्ट के द्वारा। सच्चे कहे हैं कि रिश्ते सरहद को नहीं देखते।

    उत्तर देंहटाएं
  12. रिश्ते ज़ात-बिरादरी, धर्म और सीमाएँ नहीं देखतें... यह तो दिल से शुरू होकर दिल पर ख़त्म होते हैं... ईद की ढेरों मुबारकबाद कुबूल फरमाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  13. Yadon ka karwan yun hi aage badhta rahe. Ganpatiutsav ki badhaiyan...Yadon ka karwan yun hi aage badhta rahe. Ganpatiutsav ki badhaiyan...

    उत्तर देंहटाएं
  14. मार्मिक प्रस्तुति ..मन के रिश्ते प्रगाढ़ होते हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  15. जोर की साँस अन्दर खींच लेने के बाद कहने को कुछ रह नहीं जाता।
    बस, संजय जी के शब्द उधार ले रहा हूँ ... खुद से क्या कहूँ?
    शब्द नहीं हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  16. मर्मस्पर्शी संस्मरण...।

    आप मानवीय संवेदनाओं को गहराई से अनुभव करते हैं और संबंधों को प्रगाढ़ता से निभाते भी हैं। ऐसा बिरले ही होते हैं ।

    आपके संवेदनशील मन को नमन।

    उत्तर देंहटाएं
  17. हृदयस्पर्शी प्रकरण। वाकई, जाने वालों की कमी कहाँ पूरी होती है!

    उत्तर देंहटाएं
  18. ओह .त्योहारों पर कुछ खुशी होती है कुछ गम भी.भावुक कर देने वाला संस्मरण.

    उत्तर देंहटाएं
  19. सलिल भाई, वास्तव में व्यक्तिगत रूप से हम सभी मनुष्य एक दूसरे के साथ अपना सुख-दुख बाँटते हैं। यह हमारा नैसर्गिक स्वभाव है, सियासी चश्मे से देखना हमारा सियासी स्वभाव है और अपना दबदबा बनाने के लिए कुछ भी कर गुजरना बनावटी स्वभाव है। जब हम अजनवी बनकर एक-दूसरे से मिलते हैं, तो अपनी प्रवृत्तियों के अनुकूलता और प्रतिकूलता के अनुसार अपनी नजदीकियाँ और दूरियाँ बना लेते हैं।
    आपने खट्टी-मीठी अनुभूतियों को बहुत ही सुन्दर और भावुकता पूर्ण आयाम दिया है। साधुवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  20. Jab yade taiaane lagtee hai to mujhe abhaas hota hai ki aankhe jheel see ban jatee hai par salil kee kalam me kshamta hai yanha bhee baad laane kee .

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत सुन्दर लिखा है आपने ! मार्मिक प्रस्तुती!
    आपको एवं आपके परिवार को गणेश चतुर्थी की हार्दिक शुभकामनायें!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  22. दिल के रिश्ते खून के रिश्तों से कहीं ज्यादा गहरे और भावुक होते हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  23. व्यक्तिगत और भावनात्मक रिश्ते मजहब या सरहद को नहीं देखते

    उत्तर देंहटाएं
  24. यही तो अनौखा दिव्य भाव-लोक है जो हर सीमा से ऊपर केवल हृदय की भाषा पर रचा-बसा है । ऐसे ही संस्मरण लिखे जाते रहें और पढे जाते रहें । यही कामना है ।

    उत्तर देंहटाएं
  25. यही तो अनौका दिव्य भाव-लोक है जो हर सीमा से ऊपर केवल हृदय की भाषा पर रचा-बसा है । ऐसे संस्मरण इतनी ही आत्मीयता से लिखे जाते रहें और पढे जाते रहें यही कामना है ।
    गिरिजा कुलश्रेष्ठ

    उत्तर देंहटाएं
  26. Bahut hee touching sansmaran hai. Mujhe is aalekh kee na jane kyon ittela nahee milee!

    उत्तर देंहटाएं
  27. चाचा मेरी ही ईद की बहुत सी मीठी यादें जुड़ी हुई हैं..
    ये पोस्ट तो मुझे अभी सेंटी कर गयी..सच में..

    उत्तर देंहटाएं
  28. सही कहा आपने ... दुबई शारजाह में ईद का मज़ा अलग ही आता है ... पर आपकी यादों को पढ़ के बहुत ही अच्छा लगा ...

    उत्तर देंहटाएं
  29. हम सब इस अनंत ब्रह्माण्ड का हिस्सा हैं... सदैव रहेंगे... आने जाने का क्रम भले लगा रहे!

    आज साइमा का फेसबुक पर स्टेटस देखकर मन भर आया. ऊ लिखी है कि
    “आज जब पापा को ईद मुबारक कहने के लिए फोन की तरफ हाथ बढ़ाया तो याद आया कि वो तो अव्यक्त में समा गए हैं. मिस यू पापा!”
    यह पढ़कर हमारा भी मन भर आया!

    उत्तर देंहटाएं
  30. :(

    अल्लाह उनकी रूह को जन्नत अता करे ||
    आमीन

    :(

    सादर

    उत्तर देंहटाएं